'मायानगरी' मुंबई, गोवा से जुड़े 'काले' सच का पर्दाफाश...

विनोद जगदाले, अविनाश पांडेय,नई दिल्ली (12 जून): मायानगरी मुंबई मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया की हज़ारों लड़कियों के लिए सपनों का शहर है। लेकिन समंदर किनारे बसे इस शहर का एक काला सच भी है। जिस बॉलीवुड में करियर बनाने के लिए लड़कियां पहुंचती हैं। वहां मॉडल्स और हीरोइन की बोली लगाई जाती है, रात होते ही समंदर किनारे बने आलीशान होटल्स में अय्याशी और गंदे खेल के धंधे होते हैं। ऐसा सेक्स रैकेट जिसका जाल मुंबई से गोवा तक फैला हुआ है। जिसमें खूबसूरत मॉडल्स भी हैं और कई बड़ी हीरोइन्स भी और उनसे मिले सुराग से सामने आया है- बॉलीवुड का 'गंदा' धंधा। 

जी हां एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस खुलासे के मुताबिक पैसा कमाने के लिए मायानगरी की बड़ी बड़ी हीरोइनें और मॉडल्स सेक्स रैकेट के धंधे में शामिल हैं। ये गोवा है दिन में समंदर की लहरों और रात में जवां रातों के लिए जाना जाता है। लेकिन इन रंगीन रातों का हैरान करने वाला काला सच भी है। इन रंगीन रातों में अमीरज़ादों की रातें जवां होती हैं और इन जवां रातों में उन्हें परोसी जाती हैं खूबसूरत लड़कियां। वो लड़कियां जो मायानगरी में हीरोइन बनने के सपने लेकर पहुंचती हैं। जो मॉडल बनकर नाम कमाना चाहती हैं, लेकिन दौलत की चाहत में वो मुंबई से गोवा पहुंच रही हैं।

दुनिया भर के सैलानियों की पसंदीदा जगह बन चुके गुवा की एक नई पहचान भी बन रही है। मुंबई के बाद अब गोवा सेक्स कारोबार का अड्डा बन रहा है। गोवा पुलिस ने जब कई जगहों पर छापेमारी कर एक हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का खुलासा किया तो इसके तार बॉलीवुड और टीवी दुनिया से जुड़े हुए मिले। पुलिस ने सेक्स कारोबार से जुड़े पांच लोगों को गिरफ्तार किया। जिसमें मॉडल हैं, मराठी फिल्मों की अभिनेत्रियां हैं और टीवी के बड़े शो की हीरोइन भी है।

पुलिस ने जिस घर से छापा मारकर इस सेक्स रैकेट का पर्दाफ़ाश किया। वहां से पुलिस को एक डायरी मिली है जिसमें मॉडल और ग्राहकों की जानकारी लिखी थी। इसी डायरी से पता चला है कि इन मॉडल के शौकीन बड़े बड़े राजनेता और कॉर्पोरेट जगत के लोग हैं। जो पैसा फेंकते हैं और मनमर्ज़ी मॉडल और हीरोइन को गोवा में बुला लेते हैं। और ये मॉडल भी मुंह मांगी कीमत लेकर मुंबई से गोवा पहुंच जाती हैं।

पुलिस के हाथ लगी सेक्स रैकेट के इस डायरी में मुंबई और गोवा की कई जगहों के नाम लिखे हैं। जिसे सेक्स कारोबार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। दलाल के बताए निर्देशों के मुताबिक मायानगरी की मॉडल्स इन्हीं जगहों पर पहुंचती हैं और क्लाइंट से मिलकर वापस मुंबई चली जाती हैं। फिल्हाल पुलिस ने कई जगहों को सील कर दिया है और गिरफ्त में आए सेक्स रैकेट सरगना आनंद कुमार से पूछ-ताछ कर पता लगाने में जुटी है कि इस गंदे धंधे में और कौन-कौन हीरोइन शामिल हैं। इसके तार कहां तक जाते हैं।

बड़ी हीरोइन और मॉडल का ये सेक्स कारोबार मुंबई और गोवा में खूब फल फूल रहा है। बताया जाता है की ये मॉडल्स और अभिनेत्रियां एक रात का 5 से 20 लाख रूपए अपने ग्राहकों से वसूलती हैं। कीमत उम्र और खूबसूरती के मुताबिक तय होता है, जितनी बड़ी हीरोइन होती हैं। कीमत उतनी ज़्यादा होती है।

गोवा पुलिस के मुताबिक मॉडल और सेक्स रैकेट का ये कारोबार पिछले 4 सालों से चल रहा है। इतना ही नहीं इस कारोबार को और बढ़ाने के लिए कई वेबसाइट भी बन चुके हैं। मॉडल और हीरोइन को ऑनलाइन भी बुक किया जाता है। पुलिस उन लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है जो इस तरह से कारोबार से जुड़े हैं।

कहते हैं कि इस धंधे में कुछ मॉडल्स और एक्ट्रस अपनी मर्ज़ी से आती हैं। और कुछ मजबूरी में फंस जाती हैं। दरअसल हीरोइन और मॉडल्स के सेक्स रैक्ट का ये ऐसा जाल है जहां आना उनकी मर्जी से होता है लेकिन इस जाल से निकलना उनके बस की बात नहीं। देश के छोटे बड़े शहरों से लड़कियां सपना लेकर मुंबई पहुंचती हैं, लेकिन सब को शोहरत और दौलत नहीं मिल पाती है और मुंबई में रहने और पेज थ्री लाइफ जीने के लिए उन्हें मोटी रकम की ज़रूरत होती है। ऐसे में सेक्स रैकेट के मास्टरमाइंड उन मॉडल्स और एक्स्ट्रेस को टारगेट करते हैं जिन्हें ज़्यादा काम नहीं मिलता या फिर उन्हें पैसों की ज़्यादा ज़रूरत होती है। ऐसे में कुछ मॉडल्स और हीरोइन अपना स्टेटस बनाए रखने के लिए रैकेट का हिस्सा बन जाती हैं। और इन मॉडल्स और एक्ट्रेस की रेट लिस्ट उनकी पॉपुललैरिटी के हिसाब से भी तय होती है।

दलाल हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट में अधिकतर मॉडल्स और एस्ट्रेस को अपरोच करते हैं। मुंबई की चकाचौंद ज़िंदगी में अपनी स्टेटस बनाए रखने के लिए कुछ मॉडल्स इस रास्ते को चुन लेती हैं। दलाल के संपर्क में आने के बाद मॉडल्स उसके बताए हुए रास्तों पर अमल करती हैं। एक मॉडल ने खुलासा किया है कि उनके पास क्लाइंट का नंबर और लोकेशन आ जाती है। बिना जान पहचान के दलाल के भरोसे वो वहां पहुंच जाती हैं और तो और जिस नंबर से उन्हें कॉल आती है। उस सिम को एक क्लाइंट के लिए सिर्फ एक बार ही इस्तेमाल किया जाता है। मॉडल्स के मुताबिक सभी काम कॉन्फीडेशियल होते हैं।

इन रैकेट्स के ग्राहक ज़्यादातर बड़े बिजनेसमैन और बड़े पॉलिटिशंस ही होते हैं। इन मॉडल्स और एक्ट्रेस के रेट भी उनकी पॉपुलैरिटी के हिसाब से होते हैं। कम मशहूर मॉडल्स और एक्ट्रेस के रेट 50,000 से 1 लाख रूपए प्रति ग्राहक होते हैं। जबकि, ज़्यादा मशहूर मॉडल्स और एक्ट्रेस के रेट 2 लाख से 5 लाख रूपए प्रति ग्राहक होते हैं।    आखिर क्यों लड़कियां इसका शिकार होती हैं। क्यों मॉडलिंग और एक्टिंग जैसे प्रोफेशन के साथ साथ गंदा धंधा चुनती हैं ? दरअसल जल्द ज्यादा पैसा कमाने के लालच में अभिनेत्रियां और मॉडल इस धंधे में आती हैं। लेविश ज़िन्दगी जीने का सपना इन्हें इस दलदल में खींच लाता है। हमेशा खूबसूरत और हसीन बने रहने के लिए लगने वाले खर्च को पूरा करने के लिए भी जिस्म का सौदा करती हैं। अपनी हर ज़रूरतों को पूरा करने के लिए भी ये आसान रास्ता लगता है। ड्रग्स की लत भी इन मॉडल्स और एक्ट्रेस को देहव्यापार में धकेलती है। हालांकि इस दलदल में आने के बाद पैसा कम बदनामी ज़्यादा मिलती है।

सेक्स रैकेट के दलाल लगातर मॉडल्स को अपरोच करते हैं, लेकिन कई एक्ट्रेस और मॉडल्स ऐसे ऑफर को ठुकरा देती हैं। कुछ तो मर्ज़ी से आती हैं लेकिन कुछ दलालों के चंगुल में फंस जाती हैं। छोटे शहरों से यहां पहुंचने वाली लड़कियां काम की तलाश में सभी से मिलती हैं। जिनमें कुछ ऐसे होते हैं जो सपना पूरा कराने का लालच देकर चंगुल में फंसा लेते हैं। इनका पैसा खाते हैं देहव्यापर के दलदल में ढकेल देते हैं।   पुलिस के लिए भी इस तरह के सैक्स रैकट का खुलासा करना आसान नहीं होता। क्योंकि इस तरह के रैकट काफी हाईप्रोफाइल जगह पर चलाए जाते हैं। आखिर कैसे इतने हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का खुलासा करती है पुलिस। 

पुलिस के मुताबिक कानून से बचने के लिए सेस्क रैकेटियर पार्लर, स्पा, क्लब, होटल, अपार्टमेंट्स का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल करते हैं। बाहर बोर्ड किसी और चीज़ का लगा होता है और धंधा कुछ और ही चलता है। आसानी से पुलिस यहां तक पहुंच भी नहीं पाती है। क्योंकि सीधे तौर पुलिस इन जगहों पर सेक्स रैकेट के नाम पर छापा नहीं मार सकती। इसीलिए पुलिस सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करने के लिए जाल बुनती है जिस में पुलिस के आदमी को नकली ग्राहक बनाकर उनके पास भेजती है। पुलिस के बोगस ग्राहक को हज़ार हज़ार के नोटों की गड्डी दी जाती हैं और हर एक नोट का सीरियल नंबर लिख लिया जाता है। जब डील पक्की होती है और पुलिस का आदमी कमरे में पहुंचता है तो अंदर जाकर पुलिस को मिस कॉल देकर आगाह करता है। और फिर पुलिस उस जगह पर रेड कर ग्राहक लड़कियों और उससे जुड़े लोगों को गिरफ्तार कर लेती है। फिर उन्हीं की मदद से दूसरों तक पहुंचती है।

पुलिस के मुताबिक अधिकतर ऐसे सेक्स रैकेट की जानकारी NGOs पुलिस को देते हैं। पुलिस के मुताबिक हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट सबसे ज़्यादा मुंबई और गोवा में चलते हैं। लेकिन जिस तरह से इस धंधे में मॉडल्स और हीरोइनस का नाम सामने आ रहा है वो बेहद चौंकाने वाले हैं। हालांकि ये पहला मौका नहीं है जब किसी मॉडल या हीरोइन का नाम सेक्स रैकेट से जुड़ा है। पहले भी ऐसे मामले आए हैं। लेकिन जिस बड़े पैमाने पर गोवा पुलिस छापेमारी कर मॉडल्स और हीरोइन को पकड़ा है वो पने आप में हैरान करने वाला है।