ट्रंप ने कहा, पहले 100 दिन अमेरिकी इतिहास का सबसे कामयाब वक्त


नई दिल्ली ( 30 अप्रैल ): अमरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 70 साल के वह शख्स हैं जो दुनिया की सबसे ताकतवर कुर्सी पर बैठे हैं। इस सफल कारोबारी ने पहली राजनीतिक पारी में ही अमेरिकी राष्ट्रपति की कुर्सी हासिल की। 20 जनवरी को शपथ लेने वाले डोनाल्ड ट्रंप ने बतौर राष्ट्रपति सौ दिन पूरे करने पर रेडियो के जरिये शुक्रवार को देश को संबोधित किया। उन्होंने दावा किया कि उनके कार्यकाल के पहले सौ दिन अमेरिकी इतिहास के सबसे सफल शुरुआती दिन हैं।


लेकिन तथ्य देखा जाए तो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने कार्यकाल के पहले दिन से ही वे विवादों में हैं। मुस्लिम और प्रवासी विरोधी नीतियों के कारण दुनियाभर में उनकी आलोचना हो रही है। कई मुद्दों पर यू टर्न ले चुके हैं। हालिया सर्वेक्षण घर में भी तेजी से उनकी साख घटने का इशारा कर रहे हैं।


उन्होंने अपने रेडियों संबोधन में कहा कि वह 14 हफ्तों में ही प्रशासन में बड़े बदलाव किए। नौकरियां वापस लाने में सफलता मिली। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका तेज गति से आगे बढ़ रहा है, कंपनियों के प्रदर्शन में सुधार आया है। उन्होंने कहा कि मध्यम वर्ग और व्यापार के लिए टैक्स में बड़ी कटौती की तैयारी की जा रही है।


डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि शपथ लेने के बाद से देश के आर्थिक विश्वास में उछाल आया है जो बीते नौ सालों में सबसे अधिक ऊंचाई पर है। साथ ही कहा कि जनता और सरकार के बीच का रिश्ता मेरी सरकार में आया सबसे बड़ा आधारभूत बदलाव है। उन्होंने कहा कि ट्रांस पैसिफिक पार्टनरशिप से अलग होना अमेरिका के लिए टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ। इस कदम से दुनिया के देशों को संदेश गया कि अमेरिकी कामगारों को नुकसान पहुंचाने का समय अब समाप्त हो चुका है।