Gulf War-3: थल सेना के बिना ही ईरान को तबाह कर देगा अमेरिका- ट्रंप

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 जून): ईरान समस्या का हल निकालने के लिए अमेरिका और रूस एक बार फिर बैठ कर विचार करेंगे। कोशिश की जा रही है कि समस्या का समाधान बात-चीत के जरिए निकाल लिया जाये। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान को बातचीक की  टेबल पर लाने के लिए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे को भी भेजा था लेकिन ईरान ने आबे को खाली हाथ लौटा दिया था। इस समय रूस और ईरान के रिश्ते अच्छे हैं। इसलिए अमेरिका ने प्रयास किया है कि रूस के साथ बातचीत करके बीच का कोई रास्ता निकाला जाये।

हालांकि अबतक की परिस्थितियों के मुताबिक अमेरिका और ईरान हर एक मिनट जंग के नजदीक पहुंच रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्हें ईरान और अमेरिका के बीच युद्ध टल जाने की उम्मीद है लेकिन अगर लड़ाई हुई तो अमेरिका जबर्दस्त ताकत का इस्तेमाल करेगा। ट्रंप ने कहा कि युद्ध में सैनिकों को नहीं भेजा जाएगा। ईरान से युद्ध के बारे में बात करते हुए ट्रंप ने कहा, 'मैं उम्मीद करता हूं कि ईरान हमारे  साथ युद्ध नहीं करेगा लेकिन अगर जंग होती है तो अमेरिका बहुत मजबूत स्थिति में है। मैं आपको यह बता सकता हूं कि युद्ध लंबा नहीं खिंचेगा, ईरान बहुत जल्दी घुटने टेक देगा। ट्रंप ने कहा हम  इस युद्ध में थल सेना का इस्तेमाल भी नहीं करेंगे और ईरान तबाह हो जायेगा।

दरअसल, अमेरिका के पास बेहद शक्तिशाली विध्वंसक नौसैनिक पोत और पनडुब्बियां हैं और इसके साथ ही आधुनिक स्टेल्थ लड़ाकू विमानों के साथ एयरक्राफ्ट कैरियर भी हैं जो रडारों को भनक लगे बिना तबाही मचा सकते हैं। बीते समय में युद्ध की परिस्थिति में अमेरिका जमकर टॉम हॉक मिसाइल का भी इस्तेमाल करता रहा है जो अचूक निशाना लगाने वाली बेहद आधुनिक तकनीक से लैस है। इधर ईरान के पास भी रूस निर्मित मिसाइल डिफेंस सिस्टम है। जो दुश्मन मिसाइल के रडार पर संकेत मिलते ही सक्रिय हो जाता है और कुछ ही सेकेंड्स में दुश्मन की ओर से आरही किसी भी चीज को ध्वस्त कर देता है। ईरान को अपने ऐसे ही हथियारों पर गर्व है और वो जंग में अमेरिका से दो-दो हाथ करने की कुव्वत रखता  है।  

Images Courtesy: Google