ट्रंप ने की भारत की आलोचना, पीएम मोदी के US दौरे पर छाए संकट के बादल!

नई दिल्ली ( 2 जून ): अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाॅल्ड ट्रंप ने पेरिस जलावयु परिवर्तन समझौते से बाहर निकलने की घोषणा की है। इसके बाद डोनाॅल्ड ट्रंप ने भारत के खिलाफ बयान दिए। ट्रंप के इस तीखे भाषण के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का अमेरिकी दौरा ठंडे बस्ते में पड़ सकता है। पीएम मोदी इस महीने के आखिर में व्हाइट हाउस का दौरा करने वाले थे।

शुक्रवार सुबह वॉशिंगटन और नई दिल्ली के बीच फोन कॉल्स के जरिए भारतीय अधिकारियों और राजनयिकों ने ट्रंप के भारत पर किए हमले का जवाब मांगा है। ट्रंप ने अपने बयान में पेरिस जलावयु परिवर्तन समझौते को भारत-चीन के लिए फायदेमंद बताया था। ट्रंप ने कहा था कि भारत इस समझौते के तहत विकसित देशों से अरबों-अरब रुपये की विदेशी मदद हासिल कर रहा है।

हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिकी दौरे की तारीखों की घोषणा अभी तक नहीं की गई थी, लेकिन व्हाइट हाउस ने 26-27 जून को पीएम मोदी और डोनाॅल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात की तैयारियां शुरू कर दी थीं। ट्रंप प्रशासन के वीजा नियमों में बदलाव करने, भारत में अमेरिकी निवेश कम होने और अब जलावयु समझौते से अमेरिका के अलग होने के बाद भारत संभवत: पीएम मोदी का अमेरिकी दौरा रद्द कर सकता है। हालांकि अभी तक कोई भी इस पर बात नहीं कर रहा है लेकिन दोनों देशों में ऐसी आशंकाएं व्यक्त की जा रही हैं।

गुरुवार को पेरिस जलावयु परिवर्तन समझौते से अमेरिका को बाहर करने के दौरान ट्रंप लगातार भारत-चीन पर वार कर रहे थे और अमेरिका को दुनिया की साजिश का पीड़ित बता रहे थे। व्हाइट हाउस में अपने 27 मिनट के भाषण के दौरान ट्रंप ने कहा, 'भारत पैरिस समझौते के तहत विकसित देशों से अरबों-अरब रुपये की विदेशी सहायता पा रहा है। पैरिस समझौते के नियम बहुत अन्याय पूर्ण हैं।'

ट्रंप के इस तीखे भाषण के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का अमेरिकी दौरा ठंडे बस्ते में जा सकता है। पीएम मोदी इस महीने के आखिर में वाइट हाउस का दौरा करने वाले थे।