अब सरकारी अधिकारी ट्रंप के टारगेट पर, लगाया बैन

नई दिल्ली(29 जनवरी):  राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप इन दिनों अपने चुनावी वादों को पूरा करने में जुटे हैं। चुनाव अभियान के दौरान किए गए उनके कई वादों में से एक वादा वॉशिंगटन में भ्रष्टाचार को खत्म करना भी था। अब इसी सिलसिले में कार्रवाई करते हुए शनिवार को ट्रंप ने सरकारी अधिकारियों द्वारा किसी भी अन्य देश की ओर से अमेरिका में लॉबिंग करने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया।

- इसके अलावा उन्होंने लॉबिंग पर भी पांच साल का प्रतिबंध लगाया है। प्रशासनिक अधिकारियों ने इस बैन को ऐतिहासिक बताया है, लेकिन इन दोनों फैसलों को किस तरह अमल में लाया जाएगा इस बारे में अभी कुछ भी साफ नहीं हो सका है।

- ट्रंप ने कहा कि जो लोग 'अमेरिका को फिर से महान बनाने' के उनके सपने को पूरा करने में योगदान देना चाहते हैं, उन्हें अपने काम और नौकरियों पर ध्यान देना चाहिए।

-उन्होंने कहा कि सभी को चाहिए कि वे अपना काम इस तरह करें जिससे कि अमेरिकी जनता का फायदा हो। ट्रंप ने प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कहा कि उन्हें अमेरिकी जनता के हित को वरीयता देनी चाहिए, ना कि नौकरी से रिटायर होने के बाद अपने प्रभाव के इस्तेमाल से भविष्य की आमदनी बढ़ाने के बारे में सोचना चाहिए।

- ट्रंप ने कहा कि उन्होंने अपने चुनाव अभियान के दौरान भी कई बार लॉबिंग पर प्रतिबंध लगाने की बात कही थी और अब वह अपने उसी वादे पर अमल कर रहे हैं। शनिवार को ट्रंप ने एक और अहम फैसला लिया। वह वाइट हाउस नैशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल का पुनर्गठन करना चाहते हैं। उनके सहयोगियों का कहना है कि काउंसिल में कुछ बदलाव लाए जाएंगे और उसे साइबर, डिजिटल, आतंकवाद और अन्य आधुनिक खतरों से निपटने के लिए बेहतर रूप से तैयार किया जाएगा। इसके अलावा ट्रंप ने इस्लामिक स्टेट (ISIS) को खत्म करने की दिशा में भी एक अहम कदम उठाया। उन्होंने अपने वरिष्ठ सैन्य सलाहकार को 30 दिनों की समयसीमा में IS को हराने की रणनीति तैयार करने का निर्देश दिया है।