दहेज के लालचियों ने दो बहनों को फोन पर दिया तलाक

पीयूष गौड़, गाजियाबाद (23 अप्रैल): राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद की लोनी में रहने वाली दो सगी बहनों को उनके शौहरों ने दहेज की खातिर तलाक दे दिया। दोनों बहनों की शादी 2010 में बागपत में दो सगे भाइयों से हुई थी। शादी के बाद घर को रौशन करने के लिए दो लाडलों ने जन्म लिया, लेकिन फोन पर कहे तीन शब्द ने दोनों बहनों की जिंदगी तबाह कर दी।


दोनों बहनों की शादी बड़े धूम-धाम से 2010 में बागपत को दो भाइयों के हुई थी। जो बन पड़ा इमराना और महराना के मां-बाप ने दिया, लेकिन इन दो बहनों के ससुराल वालों को उम्मीदें ज्यादा थी। शादी के बाद चंद महीने ठीक से बीते दोनों बहनों ने बेटे को जन्म दिया, लेकिन दहेज की खातिर रिश्ते में कड़वाहट बढ़ने लगी। हालात इतने बिगड़े की एक बहन को फोन पर तलाक दे दिया और दूसरे को फैक्स से तलाक का फऱमान भेज दिया गया।


तीन तलाक की इस रिवायत को अब ये बहनें चुनौती दे रही हैं और उठ खड़ी हुई हैं। शौहर के जुल्मों को खिलाफ पीएम मोदी और सीएम योगी को खत लिखे हैं। खत में तीन तलाक के खिलाफ सख्त कदम उठाने की फरियाद की हैं। मजहब की आड़ में औरतों से खिलवाड़ करने के खिलाफ आवाजे बुलंद हो रही हैं। फोन पर तलाक, फैक्स से तलाक जैसी रिवायतों को अब ये औरतें मानने को तैयार नहीं हैं। अब ये औरतें तलाक के बाद चहारदीवारी के अंदर सिसकियों की जंजीर को तोड़कर इंसाफ मांग रही हैं।