गौकशी और तीन तलाक के खिलाफ फत्वा जारी !

नई दिल्ली (5 अप्रैल): ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड की कार्यकारिणी मीटिंग में तीन तलाक का जमकर विरोध हुआ। मीटिंग में शामिल बोर्ड के पदाधिकारियों और सदस्यों ने एक स्वर से मांग रखी कि तीन तलाक की कुप्रथा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार सती प्रथा जैसा सख्त कानून बनाए। इस तरह का कानून बनने से हजारों विवाहित महिलाओं का जीवन बर्बाद होने से बच जाएगा।

मीटिंग में लिए गए फैसलों की जानकारी ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने दी। उन्होंने बताया कि मीटिंग में फैसला किया गया कि भारत में गौ मांस खाना और गो हत्या करना हराम है। बोर्ड प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने बताया कि इस्लाम औरतों को मर्द के बराबरी का दर्जा देता है, तो फिर यह तीन तलाक कहां से आया। हम केंद्र सरकार से मांग करने जा रहे हैं कि तलाक को लेकर ऐसा सख्त कानून बने कि बच्चियों का जीवन खराब न हो।


शिया पर्सलन लॉ बोर्ड की कार्यकारिणी मीटिंग में गो हत्या के मुद्दे पर चर्चा हुई। मीटिंग में इराक के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू आयतउल्लाह बशीर नजफी के फतवे का जिक्र किया गया। फतवे में मौलाना नजफी ने भारत में गो हत्या को हराम कहा है। कार्यकारिणी सदस्यों ने मौलाना बशीर नजफी के फतवे की सराहना की और कहा कि हिन्दुस्तान में गो हत्या पर पूरी तरह प्रतिबंध ठीक है। बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने कहा मीटिंग में तय किया गया है कि गो मांस खाना और गो हत्या हराम है।