कचरे से चिता बनाकर किया पत्नी का अंतिम संस्कार

नई दिल्ली (6 सितंबर): मध्य प्रदेश के नीमच में आदिवासी वर्ग के एक शख्स जगदीश भील को पैसों और प्रशासनिक सहायता के अभाव में अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार कागज, टायर, प्लास्टिक से करना पड़ा।  पत्नी की मृत्यु और पंचायत की बेरुखी से दुखी जगदीश भील अपनी पत्नी की चिता सजाने के लिए तीन घंटे तक कचरा जमा करता रहा।

शव के अंतिम संस्कार के लिए कचरा चुनते देख किसी ने उसे शव को नदी में फेंक प्रवाहित करने सलाह दी। हालांकि जिले के डीएम का कहना है कि जैसे ही हमें सूचना मिली तो हमने जगदीश भील को लकड़ी एंव अन्य सहायता मुहैया करवायी। हालांकि, कुछ देर हो चुकी थी, मगर मदद पहुंची। उन्होंने यह भी कहा कि अंतिम संस्कार पर अमानवीय रुख अपनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश भी दे दिये गये हैं।