यह कैसा इंसाफः लव मैरिज की सजा 17 लाख जुर्माना और गांव निकाला

नई दिल्ली (10 मार्च): पाकिस्तान में एक जिगरा (कबीलाई अदालत) ने लव मैरिज करने पर एक युवक पर 17 लाख रूपये का जुर्माना लगा दिया। महिला के पैरेंट्स की अनुमति लिए बिना अपनी मर्जी से ही कोर्ट में शादी रचाने पर अदालत ने पुरुष को 'कारो' (दूसरी महिला से संबंध रखने वाला) भी घोषित कर दिया।

कांधकोट-काशमोर जिले में तंगवानी के पास बजर अबाद गांव में लगी कबीलाई अदालत ने मंगलवार की रात सुनाए आदेश में प्रेमी जोड़े हफीजुल्लाह बखरानी और सलमा खातून बखरानी को गांव से भी तीन महीने के लिए बाहर कर दिया।

सलमा ने आठ महीने कोर्ट में पहले अपनी मर्जी से ही हफीजुल्लाह से निकाह रचा लिया था। इससे नाराज लड़की के परिजनों ने जिगरा में शिकायत कर दिया। परिवार वालों ने सजा के साथ ही जुर्माने की भी मांग की।

भारत में पहली बार घर बैठे कमाये

मीर अशरफ अली बिजारानी की अध्यक्षता वाले जिगरा अदालत ने हफीजुल्लाह को कारो का दोषी करार देते हुए उस पर 17 लाख का जुर्माना भी लगा दिया। इसके साथ ही जोड़े को गांव निकाला भी दे दिया गया