रेलवे टिकट कैंसलेशन के नियम में बड़ा बदलाव, 1 जुलाई से लगेगा इतना चार्ज

नई दिल्ली (5 जून): एक जुलाई से रेलवे अपने मौजूदा नियमों में भारी बदलाव करने जा रहा है। रेलवे का दावा है कि नए नियमों से यात्रियों को भारी फायदा होगा और उनकी यात्रा आरमदेह होगी। इसी कड़ी में रेलवे ने टिकट कैंसिलेशन के नियम में भी भारी बदलाव करने का फैसला किया है।

अब ट्रेन की तत्काल टिकट को कैंसिल कराने पर रेलवे 50 फीसदी पैसा रिफंड करेगा। इससे पहले रेलवे तत्काल टिकट कैंसिल करने पर एक भी पैसा रिफंड नहीं करता था। इसके अलावा AC-2 पर 100 रुपए, AC-3 पर 90 रुपए, स्लीपर पर 60 रुपए प्रति यात्री कटेंगे।

- ट्रेन आने के समय से 48 घंटे से लेकर 12 घंटे पहले तक टिकट कैंसिल कराने पर टिकट का 25 फीसदी चार्ज लगता है। इसमें एक शर्त है कि यह 25 फीसदी या फिर 48 घंटे पहले तक के चार्ज में से जो भी ज्यादा होगा वही चार्ज लगेगा

- ट्रेन आने के समय से 12 घंटे से लेकर 4 घंटे पहले तक टिकट कैंसिल कराने पर टिकट का 50 फीसदी चार्ज लगता है। इसमें एक शर्त है कि यह 50 फीसदी या फिर 48 घंटे पहले तक टिकट कैंसिल कराने पर लगने वाले चार्ज में से जो भी ज्यादा होगा वही चार्ज लगेगा

- अगर कोई ट्रेन के निर्धारित समय से 4 घंटे पहले अपने टिकट को कैंसिल कराता है तो उसे कोई पैसा वापस नहीं मिलेगा

- RAC टिकट कैंसिल कराने के लिए ट्रेन के डिपार्चर टाइम से 30 मिनट पहले तक टिकट कैंसिल कराने पर कैंसिलेशन चार्ज काटने के बाद रिफंड वापस मिल जाएगा

- अगर आपके पास ई-टिकट है और अगर ट्रेन कैंसिल हो जाती है तो इसके लिए TDR (टिकट डिपॉजिट रिसिप्ट) फाइल करने की जरूरत नहीं है। आपका रिफंट अपने आप अकाउंट में आ जाएगा। वहीं काउंटर टिकट का रिफंड काउंटर से ही मिलेगा

- अगर आपके पास ई-टिकट है और वेटिंग में है। तो आप उससे यात्रा नहीं कर सकते हैं। अगर वेटिंग में ई-टिकट लेकर यात्रा करेंगे तो आपको बिना टिकट माना जाएगा। वेटिंग वाला ई-टिकट अपने आप कैंसिल हो जाता है और उसका पैसा उसी अकाउंट में क्रेडिट हो जाता है जिससे टिकट बुक किया गया था