पानी की ट्रेन पर सियासत: यूपी सरकार ने केंद्र के वाटर ट्रेन को बताया खाली

बुंदेलखंड (6 मई): यूपी में पानी की ट्रेन पर सियासी घमासान छिड़ा है। केंद्र सरकार ने पानी के 10 टैंकरों वाली ट्रेन भेजी है। अब यूपी सरकार का कहना है कि ट्रेन तो खाली है। पहले पानी की जरूरत पर जंग शुरू हुई। अब विवाद पानी भेजने का नहीं बल्कि सवाल अब ट्रेन में पानी होने या न होने के उठ रहे हैं। 

यूपी सरकार का दावा है कि केंद्र सरकार ने बुंदेलखंड के लिए जो पानी की ट्रेन भेजी हैं। उसके टैंकर खाली हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश सरकार के कहने पर झांसी के डीएम खुद ट्रेन के टैंकरों में पानी की खोज करके आए और सामने आया ये बयान। वहीं बीजेपी कह रही है कि घमंड छोड़ो प्यासों की प्यास बुझाओ।

रेलवे की इस वॉटर ट्रेन में पानी है या नहीं इस पर सियासी घमासान छिड़ा है। ट्रेन में पानी का सच क्या है इस पर तो कई जवाब हैं लेकिन असली सच ये है कि बुंदेलखंड में जनता दो बूंद पानी के लिए तरस रही है।

देखा आपने जनता पानी के लिए परेशान है। वहीं सियासी गलियारों में कोई पानी की ट्रेन भेजकर एहसान जता रहा है। तो कोई पानी भेजे जाने पर ही सवाल उठा रहा है। साफ है कि देश के सबसे बड़े राज्य में प्यास पर पॉलिटिक्स भारी पड़ रही है।