रेलवे की बड़ी कवायद, इन रूट्स पर 160 किमी की रफ्तार से दौड़ेगी ट्रेन

नई दिल्ली (21 फरवरी): इंडियन रेलवे इन दिनों ट्रेन की स्पीड बढ़ाने की कवायद में जुटी है। रेलवे दिल्ली से हावड़ा और मुंबई कॉरिडोर को सेमी हाईस्पीड लायक बनाने लायक किया जा रहा है। इस सिलसिले में रेलवे बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारियों ने आज इन कॉरिडोर के तहत आने वाले जोन के आला अधिकारियों के साथ अहम बैठक की और इस प्रॉजेक्ट को रफ्तार देने के निर्देश दिए है। जिससे तया वक्त में इस प्रॉजेक्ट पर अमली जामा पहनाया जा सके। अगर सबकुछ ठीक रहा तो इस प्रॉजेक्ट के पूरा होते ही दिल्ली से मुंबई और दिल्ली से हावड़ा कॉरिडोर पर ट्रेनें 160 किमी की रफ्तार से दौड़ने लगेंगी।

रेलवे के आलाधिकारियों के मुताबिक इन दोनों कॉरिडोर को अपग्रेड करने के लिए इस बार नया तरीका इस्तेमाल किया जाएगा। एक तो इसे जोनों में बांटने की बजाय पूरे कॉरिडोर को ही दुरुस्त किया जाएगा। इसके अलावा कॉरिडोर पर 160 किमी की स्पीड से ट्रेनें दौड़ें, इसके लिए एक कंपनी को ही सारा जिम्मा दिया जाएगा यानी जिस कंपनी को ठेका दिया जाएगा, वही सिविल वर्क भी करेगी, ट्रैक भी अपग्रेड करेगी और सिग्नलिंग से लेकर इलेक्ट्रिसिटी का भी सारा काम उसे ही अंजाम देना होगा।

रेलवे अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली-हावड़ा कॉरिडोर कानपुर-लखनऊ सेक्शन के रास्ते होगा जबकि दिल्ली-मुंबई कॉरिडोर वडोदरा-अहमदाबाद के रास्ते होगा। रेल बजट में इस प्रॉजेक्ट का ऐलान किया गया था। इसके तहत दिल्ली-हावड़ा कॉरिडोर के लिए 6974 करोड़ रुपये और दिल्ली-मुंबई कॉरिडोर के लिए 11189 करोड़ रुपये रखे गए हैं।

रेल अधिकारियों के मुताबिक इस कॉरिडोर में जो मेल एक्सप्रेस ट्रेनें कम स्पीड पर चलती हैं, उनकी भी रफ्तार 25 किमी प्रति घंटा बढ़ाई जाएगी। इसके अलावा जब तक ये दोनों कॉरिडोर तैयार होंगे, तब तक डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर भी तैयार हो जाएगा। इस तरह से इन दोनों कॉरिडोर में चलने वाली मालगाड़ियों को फ्रेट कॉरडोर में शिफ्ट कर दिया जाएगा जिससे इन दोनों ही कॉरिडोर में ट्रेनों की स्पीड बढ़ जाए।