डाटा के उपयोग में किसी तरह के भेदभाव के पक्ष में नहीं TRAI

नई दिल्ली (28 नवंबर): भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण यानी TRAI डाटा के उपयोग में किसी तरह के भेदभाव के पक्ष में नहीं है। TRAI ने मंगलवार को नेट निरपेक्षता से जुड़ी अपनी सिफारिशें सरकार को सौंप दी है।TRAI ने कहा है कि इंटरनेट सेवाएं भेदभावरहित होनी चाहिए। इसके साथ ही TRAI ने सरकार को इसकी गतिविधियों पर निगरानी के लिए एक संस्था स्थापित करने का सुझाव दिया है.

TRAI का कहना है कि सेवा प्रदाताओं को किसी भी व्यवस्था, समझौते या अनुबंध में प्रवेश करने से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। साथ ही TRAI का कहना है कि भेदभावरहित व्यवहारों पर प्रस्तावित सिद्धांतों का दायरा विशेष रूप से 'इंटरनेट एक्सेस सेवाओं' पर लागू होता है, जो आम तौर पर जनता के लिए उपलब्ध होती हैं। इंटरनेट एक्सेस सेवा एक ऐसे सिद्धांत द्वारा शासित हो, जो सामग्री में किसी भी तरह हस्तक्षेप या भेदभाव को रोके।

गौरतलब है कि  टीएसपी और ओवर-द-टॉप (ओटीटी) कंपनियों के बीच नेट निरपेक्षता को लेकर विवाद रहा है। नियामक इस मुद्दे पर बीते दो सालों से बहस कर रहा था। नियामक ने सिफारिश की है कि निगरानी व प्रवर्तन के लिए, दूरसंचार विभाग (डीओटी) एक बहु-हितधारक संस्था की स्थापना कर सकता है, जिसमें सभी हितधारकों के लिए सहयोगी ढांचा हो।