टोयोटा ने भारत में नए निवेश पर लगाई रोक

दि‍ल्‍ली-एनसीआर में 2000 सीसी से ज्‍यादा इंजन वाले डीजल वाहनों पर लगे बैन के हटने की तस्वीर फिलहाल साफ होती नहीं दिख रही है। इस बैन से कार कंपनियां निराश और मायूस हैं। बैन से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाली कंपनियों में टोयोटा मोटर्स भी शामिल है। टोयोटा ने भारत में नए निवेश पर रोक लगा दी है।

टोयोटा की सबसे ज्यादा बिकने वाली गाड़ियों में इनोवा क्रिस्टा और फॉर्च्यूनर शामिल हैं। ये दोनों ही डीज़ल कारें हैं और इनमें 2000 सीसी से ज्यादा के इंजन लगे हैं। यही वजह है कि यह दिल्ली-एनसीआर में बैन हैं और इसकी वजह से कंपनी को काफी नुकसान हो रहा है। इसके अलावा पेट्रोल और डीज़ल के दामों में कम होते अंतर की वजह से भी डीज़ल कारों की मांग में गिरावट आई है। ऐसे में डीज़ल कंपनियों के लिए अजीब स्थिति खड़ी हो गई है।

टोयोटा ने हाल ही में बेंगलुरू में 1,100 करोड़ रूपए के निवेश से नया इंजन प्लांट खोला है। यहां इनोवा क्रिस्टा के लिए 2.4 लीटर और 2.8 लीटर के इंजन बनाए जाएंगे। इस प्लांट की क्षमता एक लाख इंजन सालाना बनाने की है। लेकिन फिलहाल इस प्लांट में क्षमता का 30 फीसदी निर्माण ही हो पा रहा है।

नए निवेश रोकने के अलावा टोयोटा यहां नए मॉडल उतारने की योजनाओं पर भी दोबारा से विचार कर रही है। टोयोटा के अलावा मर्सिडीज़-बेंज़, ऑडी और बीएमडब्ल्यू भी बैन से काफी प्रभावित हुई हैं और भारत में नए निवेश से फिलहाल बच रही हैं।

कारदेखो

टोयोटा ने भारत में नए निवेश पर लगाई रोक