अमेरिका में परमाणु खतरा, मच सकती है तबाही, इमरजेंसी घोषित


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 13 सितंबर ): अमेरिका में फ्लोरेंस तूफान की आहट को लेकर कुछ जगहों पर इमर्जेंसी का ऐलान कर दिया गया है। श्रेणी-5 के तूफान फ्लोरेंस के चलते वर्जीनिया, नॉर्थ और साउथ कैरलाइना के तटीय इलाकों से 15 लाख से ज्यादा लोगों को घर खाली कर सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया है। इस तूफान से एक महाविनाश का एक खतरा भी मंडरा रहा है।


फ्लोरेंस तूफान अमेरिका के तट पर पहुंच चुका है। इस वजह से वर्जीनिया, नॉर्थ और साउथ कैरलाइना के तटीय इलाकों से 15 लाख से ज्यादा लोगों को घर खाली कर सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया है।

अमेरिका के तटीय इलाकों में 225 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही है और मूसलाधार बारिश हो रही है। आपको बता दें कि एक्सपर्ट एजेंसियों के मुताबिक इस तूफान के रास्ते में अमेरिका के 6 न्यूक्लियर पावर प्लांट भी है। वैसे तो अमेरिका की फेडरल एजेंसियों ने तूफान से न्यूक्लियर पावर प्लांट सुरक्ष‍ित होने का दावा किया है।


वहीं कुछ विशेषज्ञों के अनुसार खतरे की आशंका पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। उनका मानना है कि अगर फ्लोरेंस तूफान अपनी पूरी शक्त‍ि से आता है तो नॉर्थ और साउथ कैरलाइना स्थि‍त न्यूक्लियर पावर प्लांट की सुरक्षा को नुकसान पहुंच सकता है।


सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार ड्यूक एनर्जी (Duke Energy) इन न्यूक्लियर पावर प्लांट्स का संचालन करती है। FEMA अधिकारियों ने दावा किया है कि पावर प्लांट्स को कोई खतरा नहीं है। वहीं  The Union of Concerned Scientists ग्रुप का कहना है कि इन पावर प्लांट्स की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पब्लिक डोमेन में ज्यादा जानकारी नहीं है। इस वजह से पूरी तरह से यह दावा नहीं किया जा सकता है कि प्लांट सुरक्षि‍त है।


तूफान बेहद खतरनाक श्रेणी-4 का बताया जा रहा है। इसे बाढ़ का खतरा बना हुआ है। कुछ रिपोर्टों के अनुसार यह तूफान श्रेणी-5 कैटिगरी तक भी पहुंच सकता है। वैसे 13 सितंबर को आई नई सूचना के अनुसार तूफान थोड़ा कमजोर हुआ है और यह श्रेणी-2 तक पहुंच सकता है, लेकिन इससे खतरा टला नहीं है। इन इलाकों में 1000 से ज्यादा फ्लाइट को रद्द कर दिया गया है।