अरबपतियों के लिए बुरा रहा साल 2016, जानिए कितनी कम हुई किसकी संपत्ति

नई दिल्ली ( 27 दिसंबर ): साल 2016 कई खरबपति व्यापरियों के लिए बुरा रहा। साल 2015 से तुलना की जाए तो देश के टॉप 10 खरबपतियों में से 7 को इस साल काफी नुकसान उठाना पड़ा। सन फॉर्मास्युटिकल के प्रमोटर दिलीप सांघवी को 4 बिलियन डॉलर का नुकसान झेलना पड़ा। कंपनी को अमेरिकी ड्रग रेग्युलेटर की तरफ से क्वॉलिटी को लेकर आरोप झेलने पड़े। विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी को भी इस साल काफी नुकसान उठाना पड़ा। उन्हें 2.9 बिलियन डॉलर का झटका लगा।

वहीं कुछ खरबपति ऐसे भी हैं, जिनके लिए साल 2016 लकी रहा। उन्हीं में से एक हैं लंदन में रहने वाले स्टील किंग लक्ष्मी निवास मित्तल, जिन्होंने 2016 की खरबपतियों की सूची में फिर से एंट्री ली है। फिलहाल वह नंबर 2 पर हैं। उनकी कंपनी के मार्केट शेयर भी 5 बिलियन चढ़ गए। साल 2015 में मित्तल इस सूची से बाहर हो गए थे। जैसे ही धातु कंपनियों के शेयर चढ़े, उनकी संपत्ति में भी उछाल आ गया।

खबरों के मुताबिक खरबपतियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी टॉप पर हैं। उनकी कंपनी की मार्केट वैल्यू पिछले साल के मुकाबले और बढ़ गई। यह साल अंबानी के लिए काफी अहम रहने वाला है क्योंकि सबकी नजरें उनके नए जियो वेंचर पर होगी। दूसरी ओर 87 साल के पालोनजी मिस्त्री अपनी 13.4 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ सूची में तीसरे नंबर पर हैं। उनके बेटे साइरस मिस्त्री और टाटा ग्रुप के बीच विवाद जारी है। पालोनजी ने टाटा सन्स से अपने 18.5 प्रतिशत शेयर निकाल लिए हैं।

इससे पहले फोर्ब्स पत्रिका ने दुनिया के सबसे ताकतवर 74 लोगों की सूची में जारी की थी, जिसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी एक मात्र भारतीय थे। पत्रिका ने 74 लोगों की इस सूची में मुकेश अंबानी को 38वें स्थान पर रखा था। इस पत्रिका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विश्व के दस सबसे ताकतवर लोगों की सूची में नौंवे स्थान पर रखा था। वहीं रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को लगातार चौथी बार इस सूची में शीर्ष स्थान पर रखा गया था। वहीं अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दूसरे स्‍थान पर थे।