जापान में है 'मिस्टर इंडिया' जैसा 'अदृश्य बच्चा', लोगों से करता है बात

नई दिल्ली ( 4 नवंबर ): जापान के सेंट्रल टोक्यो प्रांत में एक आर्टिफिशल इंटेलिजेंस वाले एक अदृश्य पात्र को शहर का आधिकारिक निवासी बनाया गया है और यह वर्चुअल पात्र सात साल के बातूनी लड़के की तरह लगता है। इसका नाम शिबुया मिरई है।

शिबुया मिरई नाम के इस लड़के का वजूद शारीरिक तौर पर नहीं है, लेकिन वह मैसेजिंग ऐप लाइन पर लोगों से गप्पें लड़ा सकता है, वह संदेशों का जवाब भी दे सकता है। इसके साथ शिबुया मिरई जापान का पहला और शायद दुनिया का पहला आर्टिफिशल इंटेलिजेंस पात्र बन गया है जिसका नाम असल जिंदगी की स्थानीय रजिस्ट्री में दर्ज किया गया है। 

मशीनों द्वारा दिखाई जाने वाली बुद्धिमता को आर्टिफिशल इंटेलिजेंस कहा जाता है। फैशन के प्रति दिलचस्पी रखने वाले युवा लोगों के लिए लोकप्रिय टोक्यो शहर के शिबुया वार्ड ने इस आर्टिफिशल इंटेलिजेंस वाले पात्र को विशेष निवासी का सर्टिफिकेट दिया है। जापानी भाषा में मिरई का मतलब भविष्य होता है। ऐसा माना जा रहा है कि वह एलिमेंटरी स्कूल में पहली कक्षा का छात्र है।

शिबुया वार्ड ने कहा कि इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य प्रांत की स्थानीय सरकार को निवासियों और अधिकारियों को उनकी राय सुनने के प्रति ज्यादा अनुकूल बनाना है। इस पात्र को संयुक्त रूप से विकसित करने वाले माइक्रोसॉफ्ट के साथ एक बयान में वार्ड ने बताया कि उसे तस्वीरें लेने और लोगों को देखने का शौक है। उसे लोगों से बात करना पसंद है... कृपया उससे किसी भी बारे में बात करिए।