उम्र भर जवान रहने के लिए कुंवारी लड़कियों के खून से नहाती थी वो

नई दिल्ली (5 मार्च): जवानी को ताउम्र बरकरार रखने के लिए लोग पता नहीं क्या-क्या नुस्खे अपनाते हैं। कुछ लोग सिर्फ हर्बल फॉरमूलों पर विश्वास करते हैं तो कुछ मांस-मछली खाते हैं। और कुछ ऐसे भी रहे हैं जो मानव रक्त को ही अपनी जवानी का राज़ मानते थे। सन 1585 से 1610 के बीच हंगरी के साम्राज्य में एक ऐसी महिला थी जिसके मन में यह बैठ गया था कि अगर वो कुंवारी लड़कियों के खून से नहायेगी तो जिंदगी भर जवान बनी रहेगी। राजघराने से जुड़ी अस महिला का नाम था एलिजाबेथ बाथरी। बाथरी पढ़ी-लिखी और चार भाषाओं की जानकार थी।

एलिजाबेथ बाथरी नाम सुनते ही लोगों की रूह कांप उठती है। बाथरी ने 600 से ज्यादा कुंवारी लड़कियों को मौत के घाट उतार दिया था। इनमें से अधिकांश लड़कियां ग्रामीणों की थीं। एलिज़ाबेथ बाथरी के तीन नौकर लड़कियों को बहला-फुसला कर या फिर अपहरण करके लाते थे। फिर उनकी हत्या करके उनके खून से एलिज़ाबेथ नहाया करती थी। उसके इसस अतिचार की खबरे सीज़ते पैलेस बाहर आने लगीं और फिर पूरे हंगरी में फैल गयीं। हंगरी के राजा मैथियाज़ ने उसके खिलाफ मुकदमा चलाया। वियेना कोर्ट में गवाहों को पेश किया गया। तब पता चला कि वो तब तक 650 से ज्यादा लड़कियों की हत्या कर चुकी थी। मैथियाज़ उसे मृत्यु दण्ड देना चाहता था, मगर राजमहल की सदस्य होने के कारण सामंतों ने ऐसा नहीं होने दिया गया। अंत में उसको उसीके महल में कैद कर दिया गया। जहां कुछ साल बाद मौत हो गयी।