गर्ल फ्रेंड को इंप्रेस्ड करने के लिए बन गये क़ातिल

नई दिल्ली (3 मार्च): आम जनजीवन पर सिनेमा का सुरूर सिर चढ़ कर बोल रहा है। सिनेमा का असर सामान्य जीवन जीने वाले को अपराधी भी बना रहा है। इसका जीता जागता उदाहरण दिल्ली की नव विकसित कॉलोनी द्वारका में हुई नौ साल के बच्चे की हत्या है। इस बच्चे के हत्यारे कोई पेशेवर हत्यारे नहीं बल्कि स्कूल गोइंग टीन एजर्स हैं। वो अपनी गर्ल फ्रेंड को इंप्रेस्ड करने के लिए मंहगी कार खरीदना चाहते थे।

इसके लिए उन्होंने पहले बच्चे का अपहरण किया। मानला खुल न जाये इसलिए उसकी हत्या कर दी। यह घटना द्वारका के सेक्टर 23 में पोचनपुर की है। यहां प्रदीप सहरावत अपने परिवार के साथ रहते हैं। ललित उनका इकलौता बेटा था। पुलिस के मुताबिक मृतक और हत्यारे आपस में रिश्तेदार भी हैं। हत्यारों ने पहले अपहरण किया और फिरौती की योजना बनायी। इसी बीच ललित शोर मचाने लगा।

बात खुल जाने और पकड़े जाने के डर से उन्होंने ललित का गला ब्लैड से काट दिया। पुलिस ने शक के आधार पर हत्यारों में से एक से पूछताछ की और गुत्थी सुलझ गयी। दोनों हत्यारे गिरफ्तार भी हो गये। उन्होंन बताया कि वो मात्र 8-10 लाख की फिरौती लेकर ललित को छोड़ देते। फिरौती से मिले पैसों से वो एक कार खरीदते और गर्लफ्रेंड के साथ मौज-मस्ती करते। पुलिस ने दोनों को जुबैनायल जेल भेज दिया है।