क्राइम पर नकेल कसने के लिए पुलिस को भी मिले आधार डेटा: NCRB डायरेक्टर

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 जून): NCRB यानि कि नेशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्यूरो डायरेक्टर इश कुमार ने गुरुवार को पुलिस को आधार डेटा का लिमिटेड एक्सेस दिए जाने का प्रस्ताव पेश किया है। 

उन्होंने कहा कि पहली बार ऑफेंडर्स और बिना शिनाख्त के शवों को ट्रेस करने में इससे मदद मिलेगी। यहां पर गौर करने वाली बात ये है कि एनसीआरबी डायरेक्टर का सुझाव ऐसे वक्त पर आया है, जब सुप्रीम कोर्ट में आधार की संवैधानिक वैधता पर केस चल रहा है।

 इसमें निजता के अधिकार के हनन की बात कही गई है। 19वें ऑल इंडिया कॉन्फ्रेंस ऑफ डायरेक्टर्स ऑफ फिंगरप्रिंट ब्यूरो में बोलते हुए एनसीआरबी चीफ ने कहा देश भर में करीब 50 लाख केस हर साल दर्ज किये जाते हैं। 

इनमें करीब 80-85 प्रतिशत फर्स्ट टाइम ऑफेंडर होते हैं, जिनका पुलिस के पास कोई रिकॉर्ड नहीं होता है। उन्होंने कहा, 'हर साल करीब 40,000 शव बरामद होते हैं, जिनकी शिनाख्त नहीं हो पाती। आधार डेटा के साथ इन शवों की शिनाख्त हो सकती है। इतना ही नहीं उन्हें उनके परिजनों को सौंपा जा सकता है।।आपको बता दें कि गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा ने कहा कि एनसीआरबी डायरेक्टर के प्रस्ताव पर मंत्रालय में चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा, 'हम इस सुझाव को मानने की कोशिश करेंगे। यह कदम अपराध रोकने में अहम हो सकता है।।