Blog single photo

कांग्रेस के इन तीन दिग्गजों ने बचाया कर्नाटक का किला

कर्नाटक के चुनावी समर में कांग्रेस ने ऐसी राजनितिक बिसात बिछाई कि भाजपा को अपने हथियार डालने पर मजबूर होना पड़ा। और इसके बाद येदियुरप्पा की बीजेपी सरकार महज दो दिनों में ही ताश के पत्तों की तरा बिखर गई।

नई दिल्ली (20 मई): कर्नाटक के चुनावी समर में कांग्रेस ने ऐसी राजनितिक बिसात बिछाई कि भाजपा को अपने हथियार डालने पर मजबूर होना पड़ा। और इसके बाद येदियुरप्पा की बीजेपी सरकार महज दो दिनों में ही ताश के पत्तों की तरा बिखर गई। कांग्रेस की इस जीत के बाद राजनैतिक गलियारों में उन तीन नेताओं की चर्चा जोरो पर है जिन्होंने बेहद ही कम समय में भाजपा के चाणक्य यानि कि अमित शाह की रणनीति को धराशाही कर दिया।

 मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वो तीन नेता, अभिषेक मनु सिंघवी, गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत हैं जिन्होंने कर्नाटक की सत्ता में काबिज होने के लिए आक्रामक रुख अख्तियार कर चुकी बीजेपी को रोका ही नहीं बल्कि चुनावी लड़ाई में बिछड़ी कांग्रेस को भाजपा से एक कदम आगे लाकर रख दिया। आपको बता दें कि कर्नाटक चुनाव के शुरुआती रुझानों के दौरान ही कांग्रेस ने अपने दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत को कर्नाटक के लिए रवाना कर दिया था।

 जिसके बाद कांग्रेस के इस नेतृत्व ने बिना वक्त गवाए जनता दल सेक्युलर के नेता कुमार स्वामी से कांग्रेस के प्रस्ताव के बारे में बताया। जेडीएस ने भी हालात की नजाकत को समझते हुए मौके को लपक लिया और मुख्यमंत्री पद की दावे दारी ठोक दी। और इस तरीके से कांग्रेस अपना दक्षिण का किला बचाने में कामयाब रही।

Tags :

NEXT STORY
Top