पानी बर्बाद किया, नहीं बढी सैलरी

नई दिल्ली(4 सितंबर): सूखाग्रस्त लातूर में पानी बर्बाद करने की वजह से तीन सरकारी कर्मचारियों की सैलरी नहीं बढ़ाई गई। इनमें एक क्लास वन ऑफिसर भी शामिल है। 

- दरअसल, 21 अगस्त को लातूर नगर निगम के छह ओवरहेड टैंकों से लगभग 20 मिनट तक ओवरफ्लो होता रहा और इस दौरान डेढ़ लाख लीटर पानी बर्बाद हो गया। इसी की वजह से वेतन नहीं बढ़ाने की अनोखी कार्रवाई हुई। तीनों कर्मचारी लातूर नगर निगम के जलापूर्ति विभाग में कार्यरत हैं।

-नगर निगम के कार्यकारी अध्यक्ष और जिले के कलेक्टर पांडुरंग पोले ने मामले की जांच के बाद तीनों को दंडित किया। अपनी सफाई में क्लास वन ऑफिसर ने अपने दो अधिनस्थ कर्मचारियों को पानी की बर्बादी का जिम्मेदार बताया। हालांकि, पोले ने पूरी घटना की जांच के बाद तीनों को इसका जिम्मेदार ठहराया।