3 'क़त्ल', 18 शेर 'हिरासत' में, 3 को 'उम्र कैद'!

नई दिल्ली (15 जून) : गुजरात की गिर सेंचुरी (अभयारण्य) के तीन शेरों को उम्र कैद की सज़ा मिली है। शेरों को उम्रकैद...पढ़ कर आप ज़रूर चौंक रहे होंगे। आइए, आपको बताते हैं कि माज़रा क्या है। दरअसल इन तीनों शेरों को सेंचुरी के पास तीन लोगों की जान लेने का 'दोषी' पाया गया था। इन हत्याओं के सिलसिले में 18 शेरों को हिरासत में लिया गया था, जिनमें से तीन को दोषी पाया गया।

वन अधिकारियों ने बताया कि 'दोषी' शेरों को सज़ा के तौर पर उम्र भर चिड़ियाघर में रखा जाएगा जबकि बाकी शेरों को सेंचुरी में दोबारा छोड़ दिया जाएगा। पुलिस ने जहां संदिग्ध शेरों के पंजों के प्रिंट लिए गए वहीं उनके मल को जांच के लिए लैब में भेजा गया।

गुजरात के मुख्य वन संरक्षक ने कहा, हमें लगता है कि हमने दोषी शेरों को पहचान लिया है, लेकिन अभी नौ और शेरों के टेस्ट के नतीजों का इंतज़ार किया जा रहा है। 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को गिर से कुछ शेरों को कुनो पालपुर वाइल्डलाइफ सेंचुरी में शिफ्ट करने का आदेश दिया था। गुजरात सरकार ने इस फैसले के खिलाफ अपील की थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था।