सिद्धू की आवाज जाने का खतरा, डॉक्टरों ने दी आराम की सलाह

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (6 दिसंबर): पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की आवाज जाने का बड़ा खतरा पैदा हो गया है। फिलहाल डॉक्टरों ने उन्हें तीन से पांच दिन तक पूरी तरह से आराम करने की नसीहत दी है। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से सिद्धू लगातार कांग्रेस की तरफ से विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार अभियान में जुटे रहे हैं।  गुरुवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि पिछले 17 दिनों तक सिद्धू ने लगातार चुनाव प्रचार में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने 70 से अधिक जनसभाएं कीं। बयान में कहा गया कि लगातार चुनाव प्रचार के दौरान भाषणों और हवाईयात्रा ने उनकी आवाज को काफी नुकसान पहुंचाया है। डॉक्टरों ने उनकी आवाज को खतरा बताते हुए पूरी तरह से आराम की सलाह दी है।प्रवक्ता ने बताया कि लगातार हेलीकॉप्टर और विमान यात्रा करने से उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ा है। वह पहले ही एंबोलिज्म (धमनी में खून का थक्का जमना या हवा का बुलबुला बनना) के लिए उपचार करवा रहे थे। उन्हें कुछ साल पहले अत्यधिक हवाई यात्रा करने के कारण डीप वेन थ्रोबोसिस (डीवीटी) का सामना करना पड़ा था।डॉक्‍टरों के अनुसार, सिद्धू को लिरिंगजाइटिस (गले की बीमारी, वोकल कार्ट) नामक बीमारी हो गई है। इसे लेकर उन्हें पांच दिनों तक एकदम चुप रहने की सलाह डाक्टरों ने दी है। बता दें कि दो सप्ताह से पंजाब व भारत से लेकर पाकिस्तान तक में अपनी तेज तर्रार भाषण शैली तथा अपने सियासी विरोधियों पर कमेंट करने को लेकर सिद्धू सियासी गलियारों में चर्चा का केंद्र बिंदु बने हुए हैं।श्री करतारपुर साहिब कोरीडोर के निर्माण को लेकर पाकिस्तान में नींव का पत्थर रखने को लेकरक आयोजित समारोह में शिरकत करके लौटने के बाद सिद्धू मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर कमेंट करके बुरे फंस गए हैं। कांग्रेस ने उन्हें पाकिस्तान से लौटने के बाद तेलंगाना व राजस्थान में चुनाव प्रचार के लिए भेज दिया था। तेलंगाना में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ उन्होंने बयान दे दिया कि उनके कैैप्टन तो राहुल गांधी हैं, अमरिंदर नहीं। इसके बाद सिद्धू कांग्रेसियों के निशाने पर चल रहे हैं।