बेंगलुरु: प्रदूषण के कारण खत्म हो गईं हजारों मछलियां

बेंगलुरु​ (7 मार्च): बेंगलुरु का उलसूर झील अपने प्रदूषित पानी के लिए जाना जाता है। यह झील एक बार फिर सुर्खियों में है। इस झील के किनारे पिछले तीन दिन से लगातार हजारों की संख्या में मछलियों के मरने की तस्वीर देखने को मिल रही है। हालांकि इसके पीछे की वजह का पता अभी तक नहीं लग पाया है। 

सोमवार सुबह जब शहर के लोगों ने देखा तो झील के किनारे हजारों की संख्या में मछलियां मरी हुई मिलीं। बता दें कि यह झील शहर के बीचो-बीच स्थित है। यह बोटिंग के लिए काफी फेमस है। इसका प्रयोग आर्मी कॉम्पिटिशन के लिए भी करती रही है।

मिली जानकारी के अनुसार इस झील में शहर में बने घरों के सीवेज का पानी आकर मिलता है। जिसके कारण पानी में मछलियों को मिलने वाले ऑक्सीजन की मात्रा खत्म सी हो गई है और पूरा पानी काला पड़ गया है।

झील के पास रहने वाले स्थानीय निवासी वी पुरुषोत्तम के अनुसार पिछले दो सालों से कई बार लोगों ने इस मुद्दे को सरकारी संस्थाओं के सामने रखा। लेकिन कोई हल नहीं निकला। वो बांध भी टूट गया है जो सीवेज के पानी को झील के पानी से अलग रखता था। यही कारण है कि सीवेज का पानी इसमें आकर मिल जाता है।  

पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि इस मुद्दे पर कार्रवाई की जाएगी। इस समस्या पर वहां के अधिकारी अपना रिपोर्ट सौंप चुके हैं। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि समस्या के हल के लिए कौन से कदम उठाए गए।