दुनियभर में ऊंचा हुआ भारत का माथा, एक राष्ट्रपति ने खुद ड्राइव की मोदी की कार

नई दिल्ली (9 जून): विदेशी जनता,विदेशी जनप्रितिनिधि और विदेशी शासकों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री ऐसा क्रेज़ पहले कभी नहीं देखा गया। कहीं स्टेंडिंग ओवेशंस,कहीं ऑटोग्राफ तो कहीं सिर्फ एक बार हाथ मिलाने की ललक। नरेंद्र मोदी का व्यक्तित्व दुनिया के बड़े-बड़े नेताओँ से भी बड़ा और ओजवान दिख रहा था। भारतीय प्रधानमंत्री से मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना तो इतने प्रभावित हो गये कि वो सारे प्रोटोकॉल्स को ध्वस्त करते खुद ड्राइविंग सीट पर बैठ गये और प्रधानमंत्री मोदी के सारथी बन कर उन्हें  भोज कराने ले गये।

 अब से कुछ दिन पहले तक जो मेक्सिको एनएसजी में भारत की एंट्री के खिलाफ था उसी मेक्सिको के महामहिम राष्ट्रपति एनरिक पेना, भारतीय प्रधानमंत्री को उनकी पसंद का भोजन कराने ले जाते हैं वो भी ड्राइवर या शोफर के साथ नहीं खुद कार ड्राइव करते हैं।

इस घटना पर विश्लेषकों को कहना है कि यह सिर्फ नरेंद्र मोदी का सम्मान नहीं बल्कि पूरे भारत का सम्मान और गर्व की बात है। पाकिस्तान और चीन कितनी ही चिल्ल-पौं मचा लें, भारत के विपक्षी दल भी चाहे तो निशाना बना लें, मोदी ने अपने इस विदेश दौरे से भारत के लिए जो कमाया है वो आज तक कोई भारतीय प्रधानमंत्री नहीं कमा सका है। 

मेक्सिको में मोदी-

1-

2-

3-

4-