'मनमोहन सिंह' हैं विजय माल्या के लोन गारंटर, सीज हुआ अकाउंट

लखनऊ(21 मई): विजय माल्या के लोन की गांरटी लेने वाले यूपी के एक किसान के बैंक अकाउंट सीज कर दिए गए हैं। चौका देने वाली बात ये है मनमोहन सिंह नाम के इस किसान को पता नहीं है कि विजय माल्या कौन हैं और किंगफिशर क्या है?

ये किसान पीलीभीत के बिलसंडा का रहने वाला है। दिसंबर 2015 तक उसके पास आठ एकड़ जमीन थी। जबकि बैंक ऑफ बड़ौदा में उसके दो अकाउंट हैं। वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर का कहना है कि उनके पास मुंबई के रीजनल ऑफिस से अकाउंट सीज करने के ऑर्डर आए थे।जबकि उसका कहना है कि वह कभी मुंबई भी नहीं गया।

अकाउंट सीज होने से उसे गवर्नमेंट स्कीम का फायदा नहीं मिल पाया। फसल भी एक व्यापारी को बहुत सस्ते दामों पर बेचनी पड़ी। इसकी वजह यह है कि इन स्कीमों का पैसा बैंक अकाउंट में ही जमा होता है और मनमोहन के अकाउंट सीज किए जा चुके हैं।

दो दिन पहले बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर और स्टाफ किसान के घर आए। उन्‍होंने मनमोहन से कहा कि विजय माल्या की किंगफिशर कंपनी के लिए करोड़ों रुपए का जो लोन लिया गया था, उसकी गारंटी आपने दी थी। बैंक मैनेजर ने मनमोहन के दो अकाउंट सीज कर दिए। किसान की मानें तो उसने 2 साल पहले 4 लाख का लोन लिया था और बैंक में अपने कागजात जमा किए थे।

जैसे ही किसान के कथित माल्या कनेक्शन की खबर मीडिया में आई, बैंक एक्टिव हो गया। शुक्रवार रात नरीमन प्वाइंट से बैंक मैनेजर को एक मेल आया। इसमें कहा गया कि किसान का गलत अकाउंट सीज कर दिया गया है। उसके सेविंग अकाउंट को सीज करने का ऑर्डर था, लेकिन केकेसी (किसान क्रेडिट कार्ड) और सेविंग, दोनों अकाउंट सीज क्यों कर दिए गए ? मेल में ये भी कहा गया कि इन दोनों ही अकाउंट्स को फौरन रिलीज करें।  हालांकि, शुक्रवार की जगह शनिवार सुबह ये दोनों अकाउंट रिलीज और एक्टिव हो पाए।