अनूठी पहल है 'रेफ्रिजरेटर ऑफ लव'

नई दिल्ली (30 मार्च): देश में हमें एक साथ दो तस्वीरें दिखाई देती हैं। एक तरफ जहां बड़ी संख्या में लोगों के पास दो वक्त के खाने की व्यवस्था नहीं है। वे भूखे और कुपोषित रहने को मजबूर हैं, वहीं दूसरी तरफ सम्पन्न वर्ग में खाने की बर्बादी भी देखने को मिलती है। इस समस्या से निपटने के लिए केरल के एक रेस्त्रां चेन ने एक नई और अलग तरह की पहल की है।  

'न्यू इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के मुताबिक, कोची में कालूर बस स्टैंड के पास कालूर-कठरीकडावू रोड पर कुछ समय पहले ही पप्पाडावाड़ा नाम से यह रेस्त्रां शुरू किया गया। अब इस रेस्त्रां ने एक नई पहल करते हुए एक पेड़ के नीचे एक कम्यूनिटी रेफ्रिजरेटर लगाया है। रेस्त्रां के मालिक मीनू पॉलीन ने बताया, "कोई भी इस रेफ्रिजरेटर में बची हुई खाने पीने की चीजें छोड़ सकता है। जिससे ये भूखे और कुपोषित लोगों को दिया जा सके। हमने इसलिए इसका नाम ननमा मारम (पुण्य पेड़) रखा है।" 

मीनू ने बताया, "पपाडावाड़ा की तरफ से तो हम इसमें खाना तो रखेंगे ही। इसके साथ ही हमने लोगों, पार्टी मेकर्स, ईवेंट मैनेजर्स और रेस्त्रां मालिकों से बचे हुए लेकिन ताजा और खाने योग्य फूड को साफ सुथरे तरीके से पैक कर 'रेफ्रिजरेटर ऑफ लव' में डिपॉजिट करने के लिए कहा है। इस पहल के जरिए हम कीमती प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण करना चाहते हैं। इसके साथ ही कई लोगों की भूख भी मिटाना चाहते हैं।" उन्होंने बताया कि इस 420 लीटर के रेफ्रिजरेटर को 24 घंटे चलाने के लिए बिजली का खर्चा रेस्त्रां ही उठाएगा। रात के वक्त सिक्योरिटी के लिए एक सीसीटीवी कैमरा भी लगाया गया है। पप्पाडावाड़ा हर दिन 50 फूड पैकेट्स इसमें रखेगा। जरूरतमंद लोग अपनी जरूरत के हिसाब से इसमें से खाने पीने की चीजें ले सकते हैं। 

रेस्त्रां के अधिकारियों ने लोगों से पैकेट्स पर बनाए जाने की तारीख लिखने के लिए कहा है। जिससे खराब खाने को हटाया जा सके। रेस्त्रां ने रेफ्रिजरेटर को सप्ताह में दो बार साफ करने की जिम्मेदारी भी ली है। जनवरी 2014 को मीनू ने सिटी बैंक से जॉब छोड़ने के बाद एरनाकुलम में एमजी रोड पर यह रेस्त्रां खोला था।