कोलकाता के इस काली मंदिर में मिलता है नूडल्स का प्रसाद

नई दिल्ली (23 जनवरी): भारत एक ऐसा देश है जहां आपको हर तरफ किसी भी कोने में एक मंदिर मिल जाएगा। देश के मंदिरों को देखने के लिए दुनिया भर से यात्री यहां घूमने के लिए आते रहते हैं। यहां सैकड़ों देवी देवताओं के मंदिर आपको देखने को मिल जाएंगे, लेकिन क्या आपने कभी चीनी काली मंदिर के बारे में सुना है?

आपको बता दें, ये चीनी काली मंदिर कोलकाता के टंगरा में स्थित है। इस मंदिर की खास बात है कि यहां प्रसाद के तौर पर नूडल्स और चॉप्सी बांटा जाता है। भारत के अपने चाइनाटाउन में स्थित इस मंदिर में चीनी और भारतीय समुदाय के बीच एक मिश्रण दिखता है। 

काली पूजा के दिन, दोनों समुदायों के बीच लोग यहां प्रार्थना करने के लिए इकट्ठे होते हैं। इसके अलावा आम दिनों में भी आप चीनी लोगों को पूज्य मूर्ति के सामने प्रार्थना करने के लिए जूते उतारते हुए देख सकते हैं। इस मंदिर की खास बाते ये हैं-

1. जिस जगह पर ये मंदिर ना हुआ है, यह 60 साल पुराना है। 60 साल पहले काले पत्थरों पर सिंदूर छिड़का गया था और स्थानीय लोगों ने उन पत्थरों की पूजा की थी।

2. एक दिन, 10 साल के एक चीनी लड़के को यहां लाया गया था। कहा जाता है कि उसकी तबियत बेहद खराब थी और डॉक्टर्स भी उसे ठीक नहीं कर पाए थे। सारी उम्मीद छोड़ने के बाद उसके माता पिता ने उसे पत्थर के पास लिटा दिया और पूरे एक दिन-रात उसकी हालत में सुधार के लिए प्रार्थना की। 

3. कहा जाता है, इस तरह प्रार्थना कामयाब हुई और एक चमत्कार हुआ। चीनी लड़का ठीक हो गया। तभी से यह चीनी समुदाय के लिए एक विशेष और पुज्य स्थल बन गया।

4. 12 साल पहले यहां ग्रेनाइट का पत्थर बनाया गया। पूराने काले पत्थर अभी भी मंदिर में वहां है। हिंदुओं के अलावा, इलाके में रहने वाले चीनी भी नियमित रूप से मंदिर में जाते हैं और इसीलिए प्रसाद के तौर पर नूडल्स, चौप्सी, चावल-सब्जी बांटी जाती हैं।