पाकिस्तान की यह गलती जो ले डूबीं मुल्क को...

नई दिल्ली (14 अगस्त): ऑल इंडिया मुस्लिम लीग ने मुस्लिमों के लिए अलग मुल्क बनाने का फैसला किया था। मोहम्मद अली जिन्ना इस मुहिम के शीर्ष नेता थे। अलग मुल्क बनाने का सपना साकार तो हो गया, लेकिन क्या आज का पाकिस्तान वैसा ही है, जैसा जिन्ना और अल्लामा इकबाल बनाना चाहते थे।

पाकिस्तान की मीडिया के मुताबिक, पाकिस्तान के इतिहास की यह बड़ी भूल ऐसी हैं, जिसका खामियाजा वह आज तक भुगत रहा है। इसकी वजह से पाक को आज एक अधूरे देश के रूप में जाना जाता है।

अमेरिका के साथ दोस्ती...

- आजादी के बाद अमेरिका के साथ स्ट्रैटेजिक एलायंस बनाना पाकिस्तान की सबसे बड़ी भूल थी। - यह पहली हिमाकत थी। हथियार और पैसे की चाह में पाकिस्तान अमेरिका का मोहरा बन गया। - शुरुआत में अमेरिका ने पाकिस्तान को कोई अहमियत नहीं दी, लेकिन उसके बाद समय बदल गया। - 1954 में पहली बार अमेरिकी लीडर जॉन फोस्टर डेलेस ने कोल्ड वार पॉलिसी बनाई। - रूस के खिलाफ दुनिया के अलग-अलग इलाकों में सहयोगियों की जरूरत थी। - पाकिस्तान ने अमेरिकियों के साथ कई तरह के पैक्ट किए। एवज में पैसा और हथियार मिलने लगा। - जब अमेरिका पैसे देता है, तब पाकिस्तान के एफ-16 उड़ान भरते हैं। इसका सबसे बड़ा परिणाम यह हुआ कि सेना को अप्रत्यक्ष रूप से ताकत मिल गई। - सिविल ब्यूरोक्रेट्स और आर्मी ब्यूरोक्रेट्स ने हाथ जोड़ लिए। भारत इसके उलट गुटनिरपेक्ष नीति पर चला। - खुद मुख्तार मूवमेंट की शुरुआत की। उसने दोनों विश्व शक्तियों से दूरी बनाए रखी।