सुहागरात के अगले दिन ही यह दुल्हनें करती थी गंदा काम...

नई दिल्‍ली: शादी दो लोगों और परिवारों के बीच विश्‍वास का सबसे नाजुक रिस्‍ता होता है लेकिन पुलिस ने शादी का झांसा देकर युवकों को ठगने वाले एक शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह का सरगना नसीराबाद निवासी गफ्फार एमपी, गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की महिलाओं और लड़कियों के साथ मिलकर ये काम कर रहा था।

गिरोह के शिकार होने वाले दो पीड़ितों के बयान के मुताबिक पहले सरगना उन्हें लड़कियां दिखाता, फिर सिंदूर और माला पहनवा कर शादी का नाटक किया जाता। बाद में लड़की सुहागरात के अगले दिन घर के जेवर व अन्य कीमती सामान समेट कर फरार हो जाती। गिरोह का सरगना रिश्ता कराने की एवज में डेढ़ से दो लाख रुपए पहले ही वसूल कर लेता था।

पुलिस के अनुसार गिरोह का शिकार बने कैलाश ने बताया कि दूर के रिश्तेदार हजारीलाल ने उससे संपर्क कर सुंदर और सुशील लड़की से शादी कराने का वादा उससे किया था। हजारी ने उसे एक गेस्ट हाउस में बुलाया, जहां आठ युवतियां और एक महिला भी थी। कोमल नामक युवती से उसकी शादी करीब 1 लाख 50 हजार रुपए में तय कर दी गई। सौदा तय होने के बाद इन लोगों ने माला और सिंदूर मंगवा कर वहीं पर शादी की रस्म पूरी कर दी। सुहागरात के मौके पर कोमल ने बहाना बनाकर कैलाश को खुद से दूर रखा। सुबह वह नींद से उठा तो कोमल गायब थी और बाद में पता चला कि कोमल उसके दिए हुए सोने-चांदी के जेवर भी साथ ले गई।