इस CEO की माली हैसियत का अनुमान 4.5 अरब डॉलर से घटकर शून्य रह गया!

नई दिल्ली (2 जून) : फोर्ब्स मैगजीन ने हेल्थ टेक्नोलॉजी कंपनी थेरेनॉस की संस्थापक और सीईओ एलिजाबेथ होम्स की माली हैसियत का अनुमान पिछले साल के 4.5 अरब डॉलर से घटाकर शून्य कर दिया है।

होम्स की ब्लड टेस्टिंग कंपनी कई संघीय और राज्य जांच एजेंसियों की जांच के घेरे में है। पिछले हफ्ते दाखिल किए एक मुकदमे में उन पर ग्राहकों के स्वास्थ्य को खतरे में डालने का आरोप लगाया गया है। आरोप है कि उनकी कंपनी ने ब्लड टेस्ट्स की गुणवत्ता और सटीकता को लेकर ग्राहकों को धोखे में रखा।

फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक निजी निवेशकों के थेरेनॉस में 9 अरब डॉलर के निवेश की बात कही गई थी। लेकिन वास्तविकता में ये रकम 80 करोड़ डॉलर होगी। इतनी कम वैल्यूएशन पर होम्स की माली हैसियत शून्य बैठती है।  

थेरेनॉस की प्रवक्ता ब्रूक बुचानन ने संपर्क किए जाने पर कहा, "क्योंकि हमारी कंपनी निजी स्वामित्तव में है, इसलिए हम गोपनीय वित्तीय जानकारी को फोर्ब्स के साथ शेयर नहीं कर सकते। नतीजा ये है कि ये लेख पूरी तरह अटकलों और प्रेस रिपोर्ट्स पर आधारित है।" 2015  में फोर्ब्स ने होम्स को अमेरिका की सबसे अमीर सेल्फमेड महिला बताया है। फोर्ब्स ने कारण भी बताया है कि क्यों होम्स की माली हैसियत के अनुमान को इस साल घटाया गया है। फोर्ब्स के मुताबिक होम्स की पूरी संपत्ति का अनुमान उनके थेरेनॉस में 50 फीसदी हिस्सेदारी पर आधारित था। लेकिन कंपनी की डायग्नोस्टिक क्षमताओं पर सवाल लगने के बाद ये सब चरमरा गया।

होम्स ने थेरेनॉस की स्थापना 2003 में की थी। कंपनी की ओर से दावा किया जाता था कि उनकी टेस्टिंग में सिर्फ एक खून की बूंद से ही सटीक नतीजे बताये जाते हैं। हालांकि वाल स्ट्रीट जरनल ने कंपनी की टेस्टिंग तकनीक पर सवाल उठाते हुए कहा था कि इसके नतीजे त्रुटि से रहित नहीं है।