कारोबार के बहाने घाटी में आतंक फैलाने के लिए पहुंचा 400 करोड़ रुपया !

नई दिल्ली (22 दिसंबर): कैलीफोर्निया की बादाम पाकिस्तान से कश्मीर भेजी जा रही है और भारत से केले और नारियल पाकिस्तान। भारतीय एजेंसियों को जांच से पता चला है कि इस कारोबार का कुछ पैसा थर्ड पार्टी ट्रेड और अंडर इन्वॉयसिंग के जरिए आतंकियों तक भी जा रहा है। एजेंसियों की रिपोर्ट के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यह मामला एनआईए को सौंप दिया है।  

एनआईए ने यह मामला यूएपीए के तहत दर्ज कर लिया है। एनआईए के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 2008 से अब तक सलामाबाद और उड़ी के बीच 21000 करोड़ का कारोबार हुआ। चकन दा बाग और पुंछ के बीच 6700 करोड़ रुपये का व्यवसाय हुआ। इनमें से 15 से 20 फीसदी रकम घाटी में आतंकी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल हुई। एक अनुमान के मुताबिक पिछले कुछ सालों में 350 से 400 करोड़ रुपये आतंकी तंजीमों तक पहुंचे हैं। एनआईए की जांच टीम बारामुला और पुंछ के कई कारोबारियों से पूछताछ भी कर चुकी है। भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा के आरपार कारोबार विश्वास बहाली के कदम के तौर पर शुरू हुआ था। यह कारोबार हफ्ते में चार बार उड़ी-मुजफ्फराबाद और पुंछ-रावलकोट के बीच होता है।  एनआईए उड़ी और बारामुला के ट्रेड सेंटर से भी कागजात जब्त कर चुकी है।