कटरा में छात्रों से बोले PM, 'आपको केवल सुविधाओं की नहीं, समर्पण की भी जरूरत'

नई दिल्ली (19 अप्रैल): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कटरा में छात्रों को संबोधित करते हुए एक कार्यक्रम में कहा कि 21वीं सदी ज्ञान की सदी होगी जिसकी भारत अगुवाई करेगा। उन्होंने कहा कि देश में 35 साल से कम उम्र के 80 करोड़ युवा हैं और हर युवा का सपना इस देश की प्रगति की कहानी बन सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री कटरा में स्थित श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय के पांचवे दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह में पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को याद करते हुए उन्होंने कहा "आपको केवल सुविधाओं की ही जरूरत नहीं है, बल्कि समर्पण की जरूरत भी है।" उन्होंने कहा, "इस विश्वविद्यालय की नींव अब्दुल कलाम ने रखी थी और उन्हें मिसाइल मैन के तौर पर जाना जाता है। एक समय वह अखबार बेचते थे। बिहार के दशरथ मांझी न तो पढ़े-लिखे थे और न ही उनके पास सुविधाएं थीं लेकिन उनका एक सपना था और उन्होंने खुद ही एक पूरी सड़क बना डाली थी।" 

प्रधानमंत्री ने छात्रों से कहा कि अगर उनके सपने हमेशा पूरे न हों तो वह अपना मनोबल न खोएं। उन्होंने कहा कि जीवन में समस्याएं आती हैं लेकिन आपको आगे बढ़ने के प्रयास करते रहना चाहिए। यह विश्वविद्यालय एक लघु भारत है और जब आप यहां से निकलें तो भारत के मुकुट (जम्मू-कश्मीर) के दूत बनें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अगर हर चीज की सुविधा होती तो ऐसे लोगों को जीवन में सब कुछ हासिल हो जाना चाहिए। लेकिन ऐसी बात नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि यह ज्ञान की सदी है और जब भी ज्ञान का दौर होता है, भारत रास्ता दिखाता है। मोदी ने कहा कि भारत 21वीं सदी का नेतृत्व करेगा क्योंकि 21वीं सदी ज्ञान की सदी है और इसके लिए ऊर्जा की जरूरत है और यह (ज्ञान) भारत के पास है। उन्होंने कहा कि भारत में 80 करोड़ युवाओं की उम्र 35 साल से कम है और हर युवा का सपना देश के विकास की कहानी बन सकता है। छात्रों से प्रधानमंत्री ने कहा कि 'आगे क्या' का सवाल उनके मनोमस्तिष्क में रहेगा लेकिन जो व्यक्ति यह जानता है कि आगे क्या है, उसे दूसरों पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं होगी।