जानिए, कौन सी हैं दुनिया की 10 'सबसे कम' सुरक्षित एयरलाइन्स

नई दिल्ली (6 जनवरी): दुनिया की सबसे बड़ी एयरलाइन्स पर किए गए वार्षिक सर्वे में उन एयरलाइन्स के नाम का खुलासा हुआ है, जिनका सुरक्षा के नजरिए से सबसे खराब रिकॉर्ड हैं।

'एयरलाइनरेटिंग्सडॉटकॉम' ने एविएशन संचालन करने वाली संस्थाओं और अगुवा एसोसिएशन्स के ऑडिट्स की जांच पड़ताल की। इसके अलावा सरकारी ऑडिट्स और हर एयरलाइन की फैटेलिटी रिकॉर्ड्स की भी जांच की। इसके अलावा इस सर्वे में एयरलाइन्स की ऑपरेशनल हिस्ट्री, इंसीडेंट रिकॉर्ड्स और ऑपरेशनल एक्सीलेंस की भी जांच की गई। इस वेबसाइट ने 407 एयरलाइन्स की सेफ्टी रेटिंग्स उपलब्ध कराई हैं। उन्हें 7स्टार्स तक की रेटिंग दी गई है। जिनमें से 148 को टॉप रेटिंग्स दी गई हैं। जबकि, 50 एयरलाइन्स को 3 या उससे कम स्टार्स दिए गए हैं। 

इस सर्वे में कुल 10 एयरलाइन्स को साल 2016 के लिए सिर्फ 1 या 0 स्टार मिले हैं। ये सभी एयलाइन्स नेपाल, इंडोनेशिया या सुरीनाम की हैं। ये 10 एयरलाइन्स ये हैं-

1. बाटलिक एयर 2. ब्लूविंग एयरलाइन्स 3. सिटीलिंक 4. काल-स्टार एविएशन 5. लॉयन एयर 6. श्रीविजया एयर 7. ट्रांसनूसा 8. ट्राइगाना एयर सर्विस 9. विंग्स एयर 10. एक्सप्रेस एयर

ये घोषणाएं साल 2015 में एविएशन के क्षेत्र में हुई दो त्रासदियों के बाद हुई हैं। इनकी वजह से पायलटों के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़े असर के चलते 'एविएशन में सिक्योरिटी' विषय पर बहस छिड़ गई है।  

3 जनवरी को इस बात का खुलासा हुआ कि पिछले दो सालों में साल 2015 में हुई एविएशन डेथ्स का प्रमुख कारण 'गैरकानूनी हस्तक्षेप' है। दूसरे शब्दों में कहें तो ये 'हत्याएं' हैं। एक शीर्ष एयरलाइन सेफ्टी फर्म To70 की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है। कंसल्टेंसी ने MH370 और MH17 विमानों के गायब होने की घटनाओं के अभी तक खुलासा ना होने का भी जिक्र किया है। जो कि साल 2015 में यूक्रेइन के ऊपर गिरा दिया गया था। इसके अलावा जर्मनविंग्स और मैट्रोजेट के एल्प्स और सिनाई में हुए क्रैश कर गिरा दिया गया था। 

मिश्र में रूसी मेट्रोजेट एयरबस A321-231 के शर्म अल शेख इंटरनेशनल एयरपोर्ट के डिपार्चर के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। जिसमें 224 लोगों की मौत हो गई थी। मार्च 2015 में एक जर्मनविंग्स एयरबस A320-211 फ्रैंच एल्प्स में क्रैश हो गई थी। जिसमें सवार 150 लोगों की मौत हो गई थी। इस बात का खुलासा बाद में हुआ कि पायलट एंड्रीस लुबिट्स में आत्महत्या की प्रवृत्तियां थीं। इसलिए उसने इसे जानबूझकर क्रैश किया। 

एयरलाइनरेटिंग्सडॉटकॉम के एडिटर ज़ॉफरी टॉमस ने बताया कि जर्मनविग्स ने अपनी 7स्टार रेटिंग साल 2016 में बरकरार रखी है, क्योंकि यह दुर्घटना पायलट की आत्महत्या की वजह से हुई। उन्होंने बताया, ''हमारे रेटिंग सिस्टम में अगर मौतें आतंकी कृत्यों, हाईजैकिंग या पायलट सुसाइड की वजह से होती हैं, तो इन्हें क्रैश रिकॉर्ड्स में शामिल नहीं किया जाता। इस रेटिंग सिस्टम की पुष्टि एविएशन का संचालन करने वाली संस्था इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन की तरफ से की गई है।'' 

मलेशियन एयरलाइन्स को दो दुर्घटनाओं के कारण बड़ा झटका लगा है। 2014 में हुई इन घटनाओं में सभी पैसेंजर्स की या तो मृत्यु हो गई या लापता हैं। इस एयरलाइन को राएनेयर और टॉमसन एयरवेस की तरह 7 में से 5स्टार रेटिंग दी गई है। अगर किसी एयरलाइन में कोई क्रैश हो जाता है या किसी पैसेंजर या स्टाफ के सदस्य की मौत होती है तो इसकी सेफ्टी रेटिंग रैंकिंग अपने आप एक स्टार कम हो जाती है। 

पिछले महीने ईराकी एयरबेस को यूरोपीय एयरस्पेस में संचालित किए जाने से प्रतिबंधित कर दिया गया। इसका कारण ''सुरक्षा मानकों पर ध्यान ना दिया जाने'' की वजह से हुआ। इसे 2 स्टार्स दिए गए हैं। थाईलैंड की एविएशन इंडस्ट्री को 2015 में विशेष साधनों में स्थान दिया गया है। इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन की तरफ से इन मुद्दों को हरी झंडी दिए जाने के बाद ऐसा किया गया। इन कैरियर्स में थाई एयरवेस शामिल है जिसे सेफ्टी के लिए 4 स्टार्स दिए गए हैं। इन्हें यूरोपियन बैकलिस्ट में शामिल किए जाने से छोड़ दिया गया। 

अधिकारियों ने बताया कि वे भविष्य में होने वाली घटनाओं को नजदीक से मॉनीटर करेंगे। अगर एयर पैसेंजर सेफ्टी को खतरा होता है तो वे प्रतिबंध लगाने का कदम भी उठा सकते हैं।