भ्रामक विज्ञापन देने पर जुर्माने के साथ होगी जेल, सेलिब्रिटीज भी शिकंजे में


मनीष कुमार, नई दिल्ली (20 दिसंबर): उपभोक्ताओं के लिए राहत की खबर है। अब भ्रामक विज्ञापन और मिलावटखोरी करने पर जाना होगा जेल और साथ में जुर्माना भी भरना होगा। साथ ही ऐसे विज्ञापनों को करने वाले सेलेब्रिटी के खिलाफ भी जुर्माना और प्रतिबंध लगाया जा सकेगा। लोकसभा से आज उपभोक्ता संरक्षण विधेयक को मंजूरी मिल गयी है।




प्रावधान के तहत अगर कोई कंपनी भ्रामक विज्ञापन में दोषी पाई गई तो पहली बार गलती करने पर 2 साल की जेल और 10 लाख रुपये जुर्माने का प्रावधान है। वहीं, अगर दूसरी बार गलती पाई गई तो 5 साल की जेल और 50 लाख रुपये जुर्माने का प्रावधान है। हालांकि सेलिब्रिटी जेल की सजा के दायरे में नहीं आएंगे, उन पर जुर्माना लगाया जाएगा।



पहले कंज्यूमर्स को वहां जाकर शिकायत करनी होती थी जहां से उसने सामान खरीदा है, लेकिन अब घर से ही शिकायत की जा सकती है। इसके अलावा विधेयक में मध्यस्थता का भी प्रावधान है। नये विधेयक में प्रावधान है कि अगर जिला और राज्य उपभोक्ता फोरम उपभोक्ता के हित में फैसला सुनाते हैं तो आरोपी कंपनी राष्ट्रीय फोरम में नहीं जा सकता। स्थाई समिति ने भ्रामक विज्ञापनों में दिखने वाले सेलिब्रिटिज को भी जेल की सजा की सिफारिश की थी. लेकिन इसमें केवल जुर्माने का प्रावधान किया गया है।