चिप से पेट्रोल चोरी का मास्टरमाइंड कर्नाटक से गिरफ्तार

नई दिल्ली (12 जुलाई): पेट्रोल पंप पर चिप लगातकर पेट्रोल चोरी को अंजाम देने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड को लंबी कोशिश के बाद पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। ठाणे पुलिस ने कर्नाटक के हुबली से प्रशांत नाम के इस शख्स को गिरफ्तार किया है। प्रशांत का नेटवर्क देशभर में फैला था।

इलेक्ट्रॉनिक चिप के माध्यम से पेट्रोल चोरी के मामले को लेकर ठाणे पुलिस द्वारा देशभर में एक मुहिम चलाई जा रही है, गत एक महीने में तकरीबन 98 पेट्रोलपंपों को सील किया जा चुका है।

प्रशांत नुलकर नाम के इस मास्टरमाइंड की गिरफ्तारी कर्नाटक के हुबली से हुई है। प्रशांत पूरे देश में पेट्रोल चोरी करने वाली चिप की सप्लाई करता था। 56 वर्षीय प्रशांत नुलकर गाड़ी में पेट्रोल डालने वाली मशीनें बनाने वाली कंपनी का पूर्व एंप्लॉयी था। नुलकर को आज मुंबई लाया जा सकता है।

चिप के जरिए पेट्रोल चोरी के मद्देनजर पिछले डेढ़ महीने के दौरान अकेले ठाणे के 98 पेट्रोल पंपों को सील कर दिया गया था। पुलिस का मानना है कि नुलकर अपने 47 वर्षीय साथी विवेक शेटे के साथ मिलकर पूरे देश में चिप की सप्लाई किया करते थे। डोंबिवली के विवेक को मई के महीने में उत्तर प्रदेश से अरेस्ट किया गया था।

गाड़ी में पेट्रोल डालने वाली डिस्पेंसिंग यूनिट्स के नोज़ल में चिप फिट की जाती थी, जिन्हें रिमोट से कंट्रोल किया जाता था। इस चिप के जरिए प्रति लीटर 20 मिलीलीटर पेट्रोल-डीजल की चोरी की जाती थी, जबकि ग्राहक पूरे पैसे देता था। मीटर रीडिंग पर इस चिप का कोई फर्क नहीं पड़ता था। ग्राहक को यह भनक भी नहीं लगती थी कि उसके साथ धोखाधड़ी की गई है।

पुलिस को बताया कि प्रशांत इंजीनियर है और वो पेट्रोल डिस्पेंसिंग यूनिट तैयार करने वाली कंपनी मिडको में काम कर चुका है। यहीं से उसके दिमाग में ये चिप बनाने का फॉर्मूला आया और उसने सॉफ्टवेयर इंजिनियर विवेक शेटे के साथ मिलकर से चिप तैयार की। इसके बाद इसने पेट्रोल पंपो तक ये चिप पहुंचाई।