NIA की गिरफ्त में आए आतंकियों से पूछताछ में खुलासा, आसमान से हो रही है घुसपैठ

महेश पांडे, नई दिल्ली (23 जून): आतंकियों ने हिंदुस्तान में दाखिल होने के लिए नया रास्ता खोज लिया है। अब लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी आसमान से हिंदुस्तान में घुसपैठ कर रहे हैं। खुफिया सूत्रों के मुताबिक पिछले तीन महीने में आतंकियों की दो खेप हिंदुस्तान पहुंच चुकी है। 

हिंदुस्तान की सरहद की निगेहबानी करनेवालों ने सुरक्षा घेरा इतना कड़ा कर दिया कि आतंकियों के लिए पुराने रुट से घुसपैठ करना मुश्किल हो गया है। जम्मू-कश्मीर या पंजाब से लश्कर-ए-तैयबा आतंकियों की घुसपैठ की हर कोशिश को हिंदुस्तान के रखवालों ने नाकाम कर दिया। 

न्यूज़ 24 को NIA सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अब आतंकी आसमानी रास्ते से हिंदुस्तान में दाखिल हो रहे हैं। अब लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हरकत-उल-अंसार जैसे खूंखार आतंकी संगठनों के आतंकी हवाई जहाज में बैठकर हिंदुस्तान की जमीन पर उतर रहे हैं। 

NIA की गिरफ्त में आए आतंकियों से पूछताछ में खुलासा हुआ है कि अब आतंकी मलयेशिया, इंडोनेशिया, फिलीपींस, दुबई और अफ्रीकी देशों से हवाई जहाज में बैठ कर सीधे हिंदुस्तान आ रहे हैं। दरअसल, पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के इरादों पर लगातार पानी फिर रहा है। जिसके बाद ISI ने अपने कुछ हैंडलर मलेशिया, इंडोनेशिया, दुबई और अफ्रीकी देशों में रख दिए हैं। 

विदेशों में बैठे हैंडलर हिंदुस्तान भेजे जानेवाले आतंकियों के लिए पासपोर्ट और वीजा का इंतजाम करते हैं। NIA सूत्रों के मुताबिक, आसमानी रास्ते सिर्फ खास आतंकियों को ही भेजा जाता है। अब भारतीय खुफिया एजेंसियों के सामने सबसे बड़ी चुनौती आतंकियों के विदेशी नेटवर्क को तोड़ने की है। NIA ने आतंकियों से पूछताछ के आधार पर इंडोनेशिया सरकार को चिट्ठी लिखी है। जिसमें बताया गया है कि कैसे आतंकी इंडोनेशिया की जमीन का इस्तेमाल कर भारत में दाखिल हो रहे हैं। 

खुफिया सूत्रों के मुताबिक, पिछले तीन महीने में आतंकियों की दो खेप हिंदुस्तान पहुंच चुकी है। आतंकियों को हवाई रुट से हिंदुस्तान में उतारने के बाद कर्नाटक, हैदराबाद, बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र भेजा गया है। हिंदुस्तान में मौजूद स्लीपर सेल हवाई जहाज से आतंकियों के उतरने के बाद उन्हें दिल्ली, राजस्थान, मध्यप्रदेश के रास्ते जम्मू-कश्मीर भेजने का इंतजाम करते हैं। खुफिया एजेंसियों ने आतंकियों के नए रुट पर नजर रखना शुरू कर दिया है।