हाईटेक हो चुके हैं पाकिस्तान के आतंकी, इस्तेमाल कर रहे हैं मैसेंजर्स एप

नई दिल्ली (11 मार्च): पाकिस्तान में आतंकी गिरोह सुरक्षा एजेंसियों को चकमा देने और पकड़ से बचने के लिए आपसी बातचीत में मैसेंजर ऐप का उपयोग कर रहे हैं। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, आईएसआईएस के आतंकी मोबाइल फोन के बजाय ‘टेलीग्राम मैसेंजर ऐप’ का उपयोग कर रहे हैं और अब तक उनकी यह रणनीति सफल साबित हुई है। ऐप से मैसेज देना आतंकियों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है और इसकी सबसे महत्वपूर्ण विशिष्टता यह है कि यह अपने आप खत्म कर दिया जा सकता है। सुरक्षा अफसरों के मुताबिक कासिद के मार्फत जुबानी पैगाम भेजने का तरीका छोड़ दें तो यह ऐप संदेश भेजने का सबसे सुरक्षित एकमात्र तरीका है। उन्होंने बताया कि पुलिस और सुरक्षा बलों के पास अभी ऐसी कोई टेक्नोलॉजी नहीं है कि इस ऐप के संदेशों को बीच में सुना जा सके।