J&K: LoC पर आतंकी घुसपैठ की कोशिश नाकाम, उरी में 5 लश्कर आतंकी ढ़ेर

आसिफ सुहाफ, श्रीनगर, (15 अगस्त): 15 अगस्त पर पाकिस्तीन की फिर नापाक साज़िश सामने आई है। 70 वे जश्न-ए-आज़ादी में ज़हर घोलने के लिए श्रीनगर के नौहट्टा में आतंकियों ने हमला कर दिया। लेकिन देश के बहादुर जवानों ने इस हमले को नाकाम कर दिया। सुरक्षा में तैनात जवानों ने आतंक को मुंहतोड़ जवाब दिया। जवानों ने हथियारों से लैस 4 आतंकियों का एनकाउंटर कर दिया। इस हमले में देश के जवान भी घायल हुए। लेकिन इन आतंकियों को ज़िंदा लौटने नहीं दिया।

इसी बीच, कश्मीर के उरी सेक्टर में आतंकवादियों के नापाक मंसूबों को नाकाम करते हुए सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में 5 आतंकियों को मार गिराया। ये आतंकी लाइन ऑफ कंट्रोल में घुसपैठ करने की फिराक में थे। इससे पहले कुपवाड़ा जिले में सेना ने घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम कर दिया था।

घाटी में गूंजती गोलियों के बीच देश के जवानों ने आतंक का गलाघोंट दिया। जश्न-ए-आज़ादी पर एक तरफ जहां पीएम ने पाक को मुंहतोड़ जवाब दिया वहीं दूसरी तरफ देश के वीरों ने एसी बहादुरी दिखाई कि गोला बारूद से लैस आतंकी चारों खाने चित हो गए। सुबह नापाक साज़िश के तहत दो फिदायीन श्रीनगर के डाउन टाउन इलाके में घुसे और सीआरपीएफ की चौकी अंधाधुन फायरिंग शुरू कर दिया।

पुलिस चौकी पर हमले के बाद दोनों आतंकी नौहट्टा के एक मकान में छुप गए। पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को चारों ओर से घेर लिया और इन आतंकियों के भागने के सारे रास्ते बंद कर दिए। मकान से आतंकी रुक-रुक कर फायरिंग कर रहे थे, लेकिन उन्हें मुंहतोड़ जवाब सुरक्षा बलों की तरफ मिल रहा था। दोनों के बीच काफी देर तक मुठभेड़ हुआ।

आतंकियों से लोहा लेते हुए एक जवान शहीद हो गया। जबकि CRPF के 9 जवान घायल हो गए, लेकिन देश के वीरों ने आतंकियों को भागने नहीं दिया। हम आपको बता दें कि जहां ये हमला हुआ है। वहां से बख्शी स्टेडियम कुछ ही दूरी पर है। जहां मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा ले रही थीं। बताया जा रहा है कि 25 साल के आतंकी इतिहास में ये पहला मौका है जब डाउन टाउन इलाके में जश्न-आज़ादी के मौके पर फिदायी हमला हुआ है।

ये फिदायीन लश्कर के आतंकी बताए जा रहे हैं। जिन्हें जश्न में ज़हर घोलने के लिए आतंकी आकाओं ने भेजा था। लेकिन सुरक्षा के जवानों ने सीधे उन्हें नर्क में पहुंचा दिया।