हाफिज़ के आतंकी का कबूलनामा, अटैक के डर से दुम दबाकर भागे आतंकी

नई दिल्ली (24 सितंबर): आतंकी हरकतों के पीछे पाकिस्तान के हाथ का जिंदा सबूत भारत के हाथ लगा तो एक के बाद एक कई खुलासे किये। पाकिस्तान की फौज और आतंकियों का गठजोड़ एक बार फिर बेनकाब हो गया, लेकिन अब पाकिस्तान की पालतू आतंकी पलटन हिंदुस्तान की फौज के खौफ में आ गई है। आतंकी दुम दबाकर बिलों में छिपते फिर रहे हैं।

उरी में अपने पालतू आतंकियों को भेजने के बाद पाकिस्तान की फौज खौफ में आ गई है। पाकिस्तान ने भारत के प्रतिवार के डर से अपने 15 आतंकी ठिकानों को पीछे कर लिया है। सूत्रों के मुताबिक पीओके में कम से कम 10 से 15 आतंकी ठिकानों की या तो जगह बदल दी गई है या तो उनको बंद कर दिया गया है।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में खुले घूमने वाले कम से कम 200 आतंकी बिलों में दुबक गए हैं। उन्हें डर है कि कभी भी भारत सर्जिकल स्ट्राइक करके, चुन-चुनकर पाकिस्तान के आतंकी अड्डों को तबाह कर सकता है। पाकिस्तान को डर है कि भारत बराक मिसाइल के ज़रिये बिना एलओसी पार किए उसके आतंकी अड्डों को तबाह कर सकता है।

हिंदुस्तान ने जवाब देने की पूरी तैयारी कर ली है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीत डोभाल और सीनियर अधिकारियों से मुलाकात की। गृह मंत्री ने रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर से भी मुलाकात की। इस बैठक में सरहद पर पाकिस्तानी सैनिकों की और आतंकियों का मुकाबला करने और घाटी में बीएसएफ की ताकत बढ़ाने को लेकर फैसला लिया गया।

बार-बार अपने गुनाहों का सबूत मांगने वाला पाकिस्तान एलओसी पार करने की कोशिश कर रहे हाफिज़ के आतंकी के कबूलनामे से दुनिया के सामने नंगा हो गया है। जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकी अब्दुल कयूम ने पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है।

हाफिज़ के आतंकी का कबूलनामा... - PoK में पाकिस्तानी फौज आतंकी ट्रेनिंग कैंप चला रही है। - पाकिस्तानी सेना आतंकियों को एके-47, एलएमजी और रॉकेट लांचर जैसे हथियार चलाने की ट्रेनिंग दे रहे हैं। - पाक आर्मी आतंकियों को भारत में घुसपैठ करने के तरीके सिखाती है। - अब्दुल कयूम लश्कर सरगना हाफिज सईद का पीएसओ यानी बॉडीगार्ड रहा है। - अब्दुल कयूम ने 2004 में पाकिस्तान के खैबर पख्तून में लश्कर के मनशेरा कैम्प में ट्रेनिंग ली है। - कयूम ने बताया कि खैबर पख्तून के कराकरम होटल के पीछे अबू हरारा मरकज पर आतंक का ट्रेनिंग सेंटर है। - पाकिस्तानी फौजी गाड़ियों से आतंकियों को पहाड़ियों के उपर लेकर जाते थे। - वहां एके-47, एलएमजी और रॉकेट लांचर चलाने की ट्रेनिंग दी जाती है।

सबूत दर सबूत मिलने से हिंदुस्तान के खौफ में है पाकिस्तान की फौज... सोते जागते पाकिस्तान को यही खतरा सता रहा है कि कहीं आतंकियों को गले लगाना भारी ना पड जाए और हिंदुस्तान की सेना का कहर पाकिस्तान पर ना टूट पड़े। हिंदुस्तान के गुस्से से पाकिस्तान की फौज में हड़कंप मच गया है।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=AhHuqR7J4ro[/embed]