INSIDE STORY: #HafizSaeed के बॉडीगार्ड कयूम ने उगले राज, अब नहीं बच पाएंगे #PAK में #TerrorCamps

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (23 सितंबर): जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकी अब्दुल कयूम ने पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है। PoK में पाकिस्तानी फौज चला रही आतंकी ट्रेनिंग कैंप। पाक सेना के अधिकारी आतंकियों को एके-47, एलएमजी और रॉकेट लांचर जैसे हथियार चलाने की दे रहे हैं ट्रेनिंग। साथ ही बता रहे हैं। भारत में घुसपैठ करने के तरीके। अब्दुल कयूम ने पूछताछ ने एक और बड़ा खुलासा किया है कि वो लश्कर सरगना हाफिज सईद का पीएसओ (बॉडीगार्ड) रहा है। उसने पाकिस्तान के खैबर पख्तून में लश्कर के मनशेरा कैम्प में ट्रेनिंग ली है। गौरतलब है कि बीएसएफ ने 23 सितंबर को परागवल के राजपुरा गांव में सीमा चौकी संख्या 21 में सुबह पांच बजे के करीब एक पाकिस्तानी नागरिक को गिरफ्तार किया था। जिसकी पहचान अब्दुल कयूम के रूप में की गई। कयूम पाकिस्तान में सियालकोट के पुल भगवा क्षेत्र का रहने वाला है। जानिए लश्कर के आतंकी अब्दुल कयूम ने क्या-क्या किए खुलासे...

- बीएसएफ के आईजी ने बताया कि कयूम को शुक्रवार तड़के अरेस्ट किया गया।  - कयूम सीमा पार करते वक्त पकड़ा गया, हालांकि उसके पास कोई हथियार नहीं मिला। - कयूम ने पूछताछ में कबूला है कि वह लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम करता है। - वह लश्कर की मैगजीन के लिए लिखता भी था, साथ ही उसके लिए फंडिंग का काम करता था। - कयूम ने कबूला कि वो लश्कर सरगना हाफिज सईद का पीएसओ रहा है। - कयूम ने कबूला कि उसने 2004 में लश्कर के मनशेरा कैम्प में ट्रेनिंग ली।  - कयूम ने बताया यहां कराकरम होटल है, इस होटल के पीछे अबू हरारा मरकज है।  - मरकज से हमें फौजी गाड़ियों से पहाड़ियों के उपर लेकर जाते थे।  - वहां एके-47, एलएमजी और रॉकेट लांचर चलाने की ट्रेनिंग दी जाती है। - यहां सेना के अधिकारियों ने कयूम का नाम अबू बकर मरकज रखा। - कयूम ने कबूल किया कि हाफिज सईद के अलावा सलाहुदीन को अच्छी तरह जानता है।

PAK ने PoK को बना दिया आतंक का गढ़...

- सुरक्षा एजेसियों के मुताबिक पाक सेना और आईएसआई की मदद से आतंकियों के कई ट्रेनिंग कैंप चल रहे हैं। - मुजफ्फराबाद और कोटली में मौजूद हैं कुछ खास ट्रेनिंग कैंप, जिसमें तैयार हो रहे हैं आतंक की नई पौध। - गढ़ हबीबुल्लाह, तलाई मंडी, जंगल-मंगल, इलाका-ए-गैर, अल मुजाहिद्दीन कैंप, बकरेल, बांदी हजीरा। - चनी चाकोट, जाहिद्दीन कैंप, नीकीआल, अशकोट जैसे कई आतंकी कैंप PoK में चल रहे है। - कैंपों में हिजबुल मुजाहिद्दीन, लश्करे तैय्यबा, जैश-ए-मोहम्मद और हरकत-उल-मुजाहिद्दीन के आतंकी मौजूद हैं। - हाफिज सईद, सैयद सलाहुद्दीन और मौलाना मसूद अजहर जैसे आतंक के सरगना चला रहे हैं कैंप। - इस कैंप में कश्मीर से बर्गला कर युवाओं को लाया जा रहा है।  - यहां इनका ब्रेनवॉश किया जाता है, फिर दी जाती है शारीरिक और दिमागी ट्रेनिंग। - इसके बाद PoK में LoC पर मौजूद लांच कैंप से भारत में घुसाए जाते हैं ये आतंकी। - कश्मीर के कुपवाड़ा-बारामुला से सटे काला पहाड़, महिंदा टॉप में तमाम आतंकी लांच कैंप मौजूद हैं। - इसके अलावा जम्मू के पुंछ, आरएस पुरा, राजौरी सेक्टर से भी घुसपैठ कराई जाती है। - भारत में घुसकर ये आतंकी अपने नापाक मंसूबों को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश करते हैं।

ट्रेनिंग कैंप किए शिफ्ट... खुफिया एजेंसियों के सुत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तानी सेना ने वर्तमान स्थिती को देखते हुए 15 मुख्य ट्रेनिंग कैंपस को या तो शिफ्ट कर दिया है या फिलहाल के लिए बंद कर दिया है। साथ ही इन कैंपस में ट्रेनिंग ले रहे लश्कर और हिजबुल के 200 आतंकियों को भी वापस भेज दिया है।

′धोखेबाज′ पाकिस्तान को ऐसे सबक सिखाएगा हिन्दुस्तान...

उड़ी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच संबंध बेहद तल्ख हो हो गए हैं। मोदी सरकार पर हर तरफ से दबाव है कि वह इस हमले का जवाब सख्त कार्रवाही से दे। ऐसे में अब सवाल है कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए भारत के पास क्या-क्या विकल्प हैं...

पहला-  सर्जिकल ऑपरेशन... पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकियों के कई कैंप चल रहे हैं, जैसा कि ऊपर बताया गया है। भारत के पास विकल्प है कि वह Pok में इन आतंकी कैंपों को टारगेट कर हमला करे। यानी सर्जिकल ऑपरेशन को अंजाम दे। सर्जिकल ऑपरेशन किसी खास टारगेट को खत्म करने के लिए किए जाते हैं। जैसी की अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए पाकिस्तान में किया था। लेकिन इससे दो परमाणु ताकतों में युद्ध छिड़ने की भी आशंका है।

दूसरा- सीधा सीमा में घुसकर हमला... जून 2015 में मणिपुर में सेना के काफिले पर घात लगाकर किए गए हमले में सेना के 18 जवान शहीद हुए थे। इस हमले के बाद भारतीय सेना ने म्यांमार में सीमावर्ती इलाकों में आतंकियों पर सीधा हमला बोला और इन कैंपों को निष्क्रिय किया। पाकिस्तान समर्थित आतंकियों के खिलाफ भी इस विकल्प पर विचार किया गया था लेकिन इसे अंजाम नहीं दिया गया। हालांकि पाकिस्तान और म्यांमार के आतंकवाद को लेकर स्टैंड में भी फर्क है।

तीसरा- बिना सीमापार किए हमला बिना एलओसी पार किए पाकिस्तान को करारा जवाब दिया जा सकता है। पीओके में आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया जा सकता है। आतंकियों के हथियार भंडारों को मोर्टार से नेस्तोनाबूत किया जा सकता है। इन ठिकानों को तबाह करने के लिए 90 किलोमीटर तक मार करने वाले स्मर्च रॉकेट्स का प्रयोग करने पर विचार हो सकता है। साथ ब्रह्मोस मिसाइल का इस्तेमाल करने पर भी विचार किया जा सकता है। य‍ह मिसाइल है 290 किलोमीटर तक मार कर सकती है।

चौथा- सीमा पर अपनाए आक्रामक रुख... 2001 में भारतीय संसद पर हुए आतंकी हमले के बाद तत्कालीन वाजपेयी सरकार ने सीमा पर चप्पे-चप्पे पर सेना लगा दी थी। इसे 'ऑपरेशन पराक्रम' नाम दिया गया। आज इसी की तर्ज पर सीमाओं पर सुरक्षाबलों की तैनाती बढ़ा दी जानी चाहिए। पाकिस्तानी विमानों को अपने हवाई मार्ग से उड़ान की इजाजत बंद कर देनी चाहिए। इस्लामाबाद स्थ‍ित भारतीय उच्चायुक्त को वापस बुलाकर नई दिल्ली स्थ‍ित पाकिस्तानी मिशन को भी अपने देश चले जाने को कहना चाहिए। 

War हुई तो टिक नहीं पाएगा पाकिस्तान... - भारत और पाकिस्तान के सैन्य ताकत की तुलना करें तो भारत पाक से कहीं आगे है।  - भारतीय सेना की संख्या करीब 13 लाख है जबकि पाकिस्तान की आधी यानी साढ़े छह लाख। - भारत के पास 6 हजार टैंक, तो पाक के पास सिर्फ 3 हजार टैंक - भारत के पास 7000 तोपें, तो पाक के पास सिर्फ 3200 तोपें। - भारतीय सेना में 13 कोर हैं जिनमें से दो स्ट्राइक कोर हैं।  - ये स्ट्राईक कोर ही युद्ध के वक्त दुश्मन से लडऩे के लिए सरहदों पर पहुंच जाएंगी।

- भारतीय वायुसेना विश्व की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है - जहां भारत के पास 1.5 लाख संख्या बल हैं वहीं पाक के पास सिर्फ 65 हजार। - इंडियन एयरफोर्स के पास 2086 फाइटर प्लेन हैं, वहीं पाक के पास सिर्फ 923 हैं। - भारत के पास 600 जंगी हेलिकॉप्टर और पाक के पास 350 जंगी हेलिकॉप्टर - फ्रांस के साथ अति आधुनिक 36 रॉफेल विमानो का सौदा भी भारत की बड़ी कामयाबी है। - इसके अलावा भारतीय वायुसेना के बेड़े में मिराज, जगुआर, मिग-29 और मिग-27 जैसे फाइटर प्लेन भी हैं।  - दुनिया का सबसे बड़ा मिलिट्री विमान C17 ग्लोबमास्टर भी एयरफोर्स के पास है।

- समुद्र में भारत की ताकत पाकिस्तान से कही ज्यादा है। - भारत के पास करीब 200 युद्धपोत हैं पाक ने 70 युद्दपोत समंदर में उतारे हैं - भारत के पास एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रमादित्य है पाकिस्तान के पास नहीं। - भारतीय नौसेना के पास 16 पनडुब्बी है,6 तैयार होने वाली हैं तो पाक के पास 8 पनड़ुब्बी। - भारत के पास आईएनएस चक्र जैसे परमाणु पनडुब्बी है लेकिन पाकिस्तान के पास नहीं। - भारतीय नौसेना के पास है करीब 200 डस्ट्रोयर और फिगेट्स जैसे युद्धपोत हैं।

भारत की मिसाइल ताकत पाकिस्तान से कहीं ज्यादा... - भारतीय सेना के पास अग्नि, पृथ्वी, आकाश और नाग जैसी आधुनिक मिसाइलें हैं। - यही नहीं भारत के पास ब्रह्मोस जैसी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। - जो 5 मिनट में 290 किमी के टारगेट को बर्बाद कर सकती है। - इसके अलावा भारत के पास जमीन से हवा में मार करने वाली बराक-8 मिसाइल भी है। - बराक-8 मिसाइल 70 किमी के दायरे में किसी भी मिसाइल को हवा में भी नष्ट कर सकती है। - भारत ने अग्नि-5 जो सबसे आधुनिक और घातक मिसाइल है, विकसित कर ली है। - अग्नि-5 एक इंटर कॉन्टिनेटल बैलिस्टिक मिसाइल है।  - जो 5 से लेकर 8 हजार किमी तक परमाणु हथियार ले जा सकती है। - वहीं पाकिस्तान के पास गौरी, शाहीन, गजनवी, हत्फ और बाबर जैसी मिसाइलें हैं। - लेकिन पाकिस्तान के पास जो मिसाइल हैं उनकी तकनीक काफी पुरानी है। - पाकिस्तान मिसाइल टेक्नोलॉजी के मामले में चीन पर ज्यादा निर्भर है।

भारत पाकिस्तान की सैन्य तुलना...

More Info: http://hindi.news24online.com/pakistan-nervous-f-16-fighter-plane-fly-over-islamabad-17/