'पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहेगी अमरनाथ यात्रा, चिंता की कोई बात नहीं'

श्रीनगर(14 जून): जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में मंगलवार की शाम से देर रात तक एक के बाद एक 6 आतंकी हमले हुए। कश्मीर में अलग-अलग जगहों पर सीआरपीएफ, पुलिस और सेना के ठिकानों को निशाना बनाया गया। इन आतंकी वारदातों के पीछे जैश-ए-मोहम्मद का हाथ होने की बात सामने आ रही है। वहीं अमरनाथ यात्रा को लेकर डीजीपी वैद्य ने कहा, 'यात्रियों की सुरक्षा के लिए हमने सभी जरूरी इंतजाम किए हैं। किसी को भी चिंतित होने की जरूरत नहीं है। यात्रा पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहेगी।'

- बता दें कि रमजान के महीने में आतंकी घटना की आशंका सुरक्षा बलों को पहले से ही थी। वहीं, 29 जून से शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा को लेकर भी सुरक्षा बल सतर्क हैं।

- प्रदेश के डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा कि घाटी में हिजबुल मुजाहिदीन का व्यापक प्रभाव है। सोमवार को हुए सीरियल हंमलों में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है।

- डीजीपी ने कहा कि इंटेलिजेस सूत्रों से हमें यह जानकारी मिली है। डीजीपी वैद्य ने यह भी कहा कि स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के इंतजाम और पुख्ता कर दिए गए हैं। 

- बता दें कि मंगलवार को हुए ताबड़तोड़ हमलों में हाई कोर्ट के पूर्व जज मुजफ्फर हुसैन के सुरक्षा गार्ड को गोली मार दी। इन हमलों में 12 सैनिक घायल हुए हैं, वहीं कश्मीर घाटी में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

- बता दें कि 29 जून से 40 दिन की सुरक्षा यात्रा शुरू हो रही है। खुफिया एजेंसियों को आशंका है कि शुक्रवार को रमजान के 17वें रोज़े के दिन आतंकी किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं।