भारत का ड्रैगन को करारा जवाब, 2012 का एग्रीमेंट याद करे चीन

नई दिल्ली (30 जून): सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राइ-जंक्शन पर भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ गया है। चीन द्वारा सड़क निर्माण को लेकर शुक्रवार को भारत ने चीन को करारा जवाब दिया है।


विदेश मंत्रालय बयान जारी कहा गया है कि चीन द्वारा सड़क निर्माण के चलते भारत की सुरक्षा को खतरा हो सकता है और इससे वर्तमान स्थिति गंभीर रूप से प्रभावित होगी। भारत चीन के कदम को लेकर गंभीर है।


विदेश मंत्रालय के बयान में यह भी कहा गया है कि चीन 2012 का आग्रीमेंट याद करे जिसमें कहा गया है कि ट्राइ जंक्शन पर सीमा को लेकर फैसला भारत-चीन और तीसरा देश आपस में सहमति से लेंगे। इसके बिना ट्राइ जंक्शन पर कोई भी हरकत को इस अग्रीमेंट के उल्लंघन के तौर पर देखा जाएगा।


-भारत ने कहा कि चीनी विदेश मंत्रालय ने 26 जून को कहा कि डोका ला क्षेत्र में भारतीय सैनिक भारत-चीन बार्डर के पार चले गए, लेकिन हकीकत ये है कि 16 जून को ही PLA की निर्माण टुकड़ी ने सड़क बनाने के लिए डोका ला क्षेत्र में प्रवेश कर गई थी जिसका की विरोध भूटान द्वारा किया गया।


-विदेश मंत्रालय ने कहा कि भूटान ने ये बात बयान जारी कर कहा है कि 1997 और 1998 के भूटान-चीन समझौते के मद्देनजर चीन को ऐसा नहीं करना चाहिए और 16 जून से पहले की स्थिति तुरंत बहाल करनी चाहिए।


-ये सच है कि बार्डर पर मौजूद भारतीय सैनिकों ने डोका ला में चीनी पार्टी को किसी भी तरह के निर्माण से मना किया था और कर भी रहे हैं। हम कूटनीतिक स्तर पर भी इस मसले पर चीन से बातचीत कर रहे हैं। हमने इस मसले को तब भी उठाया था जब नाथुला बार्डर को बंद किए जाने पर दोनो देशों की तरफ से Border Talk हुई थी ।


-भारत चीन द्वारा किए जा रहे निर्माण पर चिंता जाहिर करता है। भारत मानता है कि ये प्रयास यथास्थिति में बदलाव के लिए किए जा रहे प्रयास समझे जाएंगे। भारत चाहता है कि चीन के साथ किसी भी मसले का शांतिपूर्ण तरीके से और बातचीत के जरिए हल निकाला जाए।

 

इससे पहले खबर आई थी कि भारत और चीन ने सीमावर्ती इलाकों में सौनिकों की तैनाती की है। दोनों देशों में सीमा पर 3 हजार से ज्यादा सैनिक तैनात कर दिए हैं। जानकारी के अनुसार सेना ने इसे लेकर कुछ भी नहीं कहा है लेकिन बताया जा रहा है कि डोका ला जनरल और ट्राइ जंक्शन पर सैनिकों की तैनाती को गंभीर माना जा रहा है। भारत ने जहां साफ किया है कि वो ट्राइ जंक्शन तक चीन को सड़क नहीं बनाने देगा वहीं भूटान ने भी डोका ला में निर्माण पर आपत्ति जता दी है।