दिवाली पर बेरोजगारों के लिए खुशखबरी, 20 लाख जॉब देगा टेलिकॉम सेक्टर

नई दिल्ली ( 27 अक्टूबर ) : देश के बेरोजगार युवाओं के लिए दिवाली के मौके पर यह खुशखबरी लेकर आई है। दुनिया के टॉप टेलिकॉम ग्रुप जीएसएमए ने कहा है कि भारतीय टेलिकॉम क्षेत्र से सरकार को 2020 तक 1,45,000 करोड़ रुपये मिल सकते हैं। साथ ही, इस सेक्टर में लाखों नौकरियां पैदा होने की संभावना है। लंदन की इस संस्था का कहना है कि इंडस्ट्री ने 2015 में सरकार को 1,40,000 करोड़ रुपये दिए। इसमें जनरल टैक्स के तौर पर 67,000 करोड़ और मल्टी बैंड स्पेक्ट्रम अधिग्रहण से जुड़ा 34,000 करोड़ रुपया शामिल है।

जीएसएमए के अनुसार, टैक्स रेट और रेग्युलेटरी फीस मौजूदा स्तर पर रहने की सूरत में जनरल और मोबाइल आधारित टैक्स का योगदान बढ़कर 1.45 लाख करोड़ तक पहुंच जाएगा। जीएसएमए की स्टडी के मुताबिक'2015 में मार्केट का ऑपरेटिंग मार्जिन 33 फीसदी रहा जो चीन, पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे देशों के मार्केट के औसत से अब भी कम है।'

2015 में देश के जीडीपी में टेलिकॉम सेक्टर का योगदान 6.5 प्रतिशत रहा और इसकी इकनॉमिक वैल्यू तकरीबन 9 लाख करोड़ है। देश के संगठित और असंगठित सेगमेंट में टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स और इससे जुड़ा सिस्टम 22 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराता है। जीएसएमए के मुताबिक, यह आंकड़ा बढ़कर 30 लाख तक हो सकता है। साथ ही, 2020 तक 20 लाख जॉब के और मौके तैयार हो सकते हैं।

टेलिकॉम ग्रुप ने यह भी कहा कि भारत में 2020 तक और 33.7 करोड़ मोबाइल सब्सक्राइबर्स जुड़ सकते हैं यानी 2015 से 2020 के दौरान यह ग्रोथ 9 प्रतिशत सीएजीआर रहने का अनुमान है। जीएसएमए के बोर्ड में भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया, आइडिया सेल्युलर और एयरसेल जैसी कंपनियां हैं।