तेजस्वी यादव ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड, कहा- हर मोर्चे पर विफल है नीतीश सरकार

नई दिल्ली ( 4 अप्रैल ): बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बुधवार को नीतीश सरकार के एक साल के कामकाज पर रिपोर्ट कार्ड पेश किया। आरजेडी ने इस रिपोर्ट कार्ड को 'जनता का आरोप पत्र' नाम दिया है। राजधानी पटना के 5 देश रत्न मार्ग में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार से कई तीखे सवाल पूछे और सरकार में भागीदार बीजेपी पर भी जोरदार हमला बोला। तेजस्वी ने कहा कि बिहार सरकार प्रत्येक साल रिपोर्ट कार्ड जारी करती है। लेकिन इस साल इसलिए जारी नहीं कर रही है, क्योंकि सरकार के पास बताने के लिए कुछ भी नहीं है। 

नीतीश सरकार पर हमला करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि दिल्ली और नागपुर से सरकार चलाया जा रहा है। बिहार में दलितों पर अत्याचार में बढ़ोतरी हुई है। तेजस्वी ने शराबबंदी को पूरी तरह फेल बताते हुए कहा कि शराब की होम डिलिवरी खुलेआम हो रही है। इस कानून के जरिए दलितों और अति पिछड़ों पर अत्याचार किया जा रहा हैं। इस कानून के तहत बंद एक लाख तीस हजार में से ज्यादातर लोग दलित और अति पिछड़े हैं। 

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि बिहार में शिक्षा और स्वास्थ्य की हालत खराब है। शिक्षकों को समय पर वेतन नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने पूछा कि नीतीश कुमार बताएं कि वो सात निश्चय का काम कर रहे हैं या फिर आरएसएस के एजेंडा को पूरा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सूबे में खेल और खिलाड़ियों का भी बुरा हाल है।

उन्होंने कहा कि बिहार में आरपीएस टैक्स लिया जा रहा है। डबल इंजन की सरकार बिहार को स्पेशल स्टेट्स और स्पेशल पैकेज दिलाने में विफल साबित हो रही है। जबकि केंद्र और राज्य में एक गठबंधन की सरकार है। स्पेशल पैकेज के नाम पर बिहार के लोगों के साथ धोखा दिया जा रहा है। बिहार में 36 से ज्यादा घोटाले हो चुके हैं लेकिन किसी भी अधिकारी और नेता के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई।