Blog single photo

लालू के कुनबे में बगावत, छलका बड़े बेटे तेज प्रताप का दर्द

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप के बयान ने प्रदेश की राजनीति में हलचल मचा दिया है। तेज प्रताप ने एक ट्वीट के जरिए यह कहने की कोशिश की है कि वह राजनीति से संन्यास ले सकते हैं और 'सबकुछ' अपने भाई तेजस्वी के हाथों में सौंप सकते हैं।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 9 जून ): बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप के बयान ने प्रदेश की राजनीति में हलचल मचा दिया है। तेज प्रताप ने एक ट्वीट के जरिए यह कहने की कोशिश की है कि वह राजनीति से संन्यास ले सकते हैं और 'सबकुछ' अपने भाई तेजस्वी के हाथों में सौंप सकते हैं।तेज प्रताप ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा, 'पार्टी के लोग मेरा फोन नहीं उठाते हैं और कहते हैं कि उन्हें ऐसा करने के लिए वरिष्ठ नेताओं की ओर से कहा गया है। मेरे और मेरे भाई के बीच में कोई मतभेद नहीं है। हमें उन असमाजिक तत्वों को पार्टी से निकालना होगा, जो हमें तोड़ना चाहते हैं। मैं चाहता हूं कि वरिष्ठ नेता ऐसे लोगों को पहचानें और उनको बाहर करें।'तेज प्रताप ने मीडिया से बात करते हुए यह भी कहा, 'हमें असामाजिक तत्वों को पार्टी से निकालना होगा। राजेंद्र पासवान जैसे लोगों ने हमारे लिए मेहनत की है। जब मैंने लालू जी, राबड़ी जी और तेजस्वी को कहा तब उन्हें पद दिया गया। यह सब इतनी देरी से क्यों किया गया?'दरअसल, तेज प्रताप ने एक ट्वीट में लिखा, 'मेरा सोचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊं। अब कुछएक 'चुगलों' को कष्ट है कि कहीं मैं किंगमेकर न कहलाऊं।' तेज प्रताप के इस ट्वीट से कयास लगाए जा रहे हैं कि उनके और तेजस्वी के बीच कुछ गड़बड़ चल रहा है।तेजस्वी के बारे में बोलते हुए तेज प्रताप ने कहा, 'वह मेरे कलेजे का टुकड़ा है। असामाजिक तत्वों की कोशिश है कि भाई-भाई को लड़वाने की। उनकी कोशिश है कि पार्टी को तोड़ो, लालू यादव को तोड़ों लेकिन हम कभी ऐसा होने नहीं देंगे। वरिष्ठ नेताओं को चाहिए कि ऐसे लोगों को चिह्नित करें और उनको बाहर निकालें।'हालांकि, तेज प्रताप ने एक और ट्वीट किया है और कहा है कि उनकी पार्टी को एकता में सेंध लगाने वालों से बचना चाहिए। उन्होंने लिखा, 'आरजेडी और गठबंधन सहयोगियों के सामने 2019 के लिए एक नई सरकार बनाने की बड़ी जिम्मेवारी है, लेकिन हमें उन असामाजिक तत्वों से सावधान रहना है, जो इस एकता में सेंध लगाना चाहते हैं। जय भीम, जय बहुजन, जय मंडल, जय हिंद।'

Tags :

NEXT STORY
Top