...तो ऐसी लड़कियां हो जाती हैं मोटी

लंदन (22 दिसंबर): आमतौर पर देखा जाता है कि लड़कियां ज्यादा हेल्थ कंसस होती हैं और लड़कों के मुकाबले अपने मोटापे और वजन को लेकर ज्यादा फिक्रमंद रहती हैं। एक रिसर्च के मुताबिक कुछ लड़कियों में मोटे होने की आशंका कुछ ज्‍यादा होती है।

रिसर्च के मुताबिक ऐसी लड़कियां जो दौड़ने, पकड़ने या बैलेंस बनाने वाले खेलों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पातीं उनमें समान तरह के कम स्किल वाले लड़कों की तुलना में मोटापे से ग्रस्त होने की ज्यादा आशंका होती है। रिपोर्ट के मुताबिक प्राइमरी स्कूल के बच्चों, जिनमें वेट और हाइट का रेशों ज्यादा होता है, वे स्‍पोर्ट्स में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते।

इस नए रिसर्च में शोधकर्ताओं ने दौड़ने, पकड़ने और बैलेंस वाले कौशलों का आकलन किया। इसमें 250 लड़कियों और लड़कों के इन कौशलों को देखा गया, जिनकी उम्र 6-11 साल थी। इसमें उनकी फंडामेंटल एक्टिविटी स्किल यानी FMS को लो, मीडियम या हाई कैटेगिरी में रखा गया।

शोधकर्ताओं ने बच्चों की बॉडी फैट और एक्टिविटी स्किल दोनों के संबंधों को जांचने के लिए का रिसर्च की। इसमें बॉडी एक्टिविटी में अभ्यस्त बच्चों का भी ख्याल रखा गया। इसके नतीजों से पता चलता है कि लो फंडामेंटल एक्टिविटी स्किल वाली लड़कियों में ज्यादा एफएमएस वाले लड़कों और लड़कियों की तुलना में मोटापा ज्यादा पाया गया।

ब्रिटेन के कोवेंट्री यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर माइक डंकन ने कहा कि हमने जो पाया वह महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह स्ट्रैटजी रिव्‍यू करने और लड़कियों में दौड़ने-भागने वाली स्किल्‍स को बढ़ावा देने का इशारा करता है।

माइक डंकन के मुताबिक बड़ा सवाल यह है कि डवलपमेंट में देरी की वजह से कुछ लड़कियों और लड़कों में एक्‍िटविटी स्किल देरी से आती है। यह बच्चों में मोटापे का कारण हो सकता है। इस शोध की रिपोर्ट हाल ही में नाटिंघम में हुई ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ स्पोर्ट एंड एक्सरसाइज साइंसेज कान्फ्रेंस 2016 में पेश की गई।