Blog single photo

शाओमी के इस स्मार्टफोन में अचानक लगी आग, कभी न करें ये बड़ी गलती

स्मार्टफोन (Smartphone) में आग लगने के मामले आज कल खूब सामने आते हैं, जिससे लोगों को काफी नुकसान भी उठाना पड़ जाता है। देश में ऐसे में कई मामले सामने आए हैं, जब स्मार्टफोन (Smartphone) में बैटरी फटने या आग लगने से लोगों को जान से भी हाथ धोना पड़ा है। अब स्मार्टफोन (Smartphone) फटने या उनमें आग लगने से जुड़े मामले नए नहीं हैं

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(22 नवंबर): स्मार्टफोन (Smartphone) में आग लगने के मामले आज कल खूब सामने आते हैं, जिससे लोगों को काफी नुकसान भी उठाना पड़ जाता है। देश में ऐसे में कई मामले सामने आए हैं, जब स्मार्टफोन  (Smartphone) में बैटरी फटने या आग लगने से लोगों को जान से भी हाथ धोना पड़ा है। अब स्मार्टफोन  (Smartphone) फटने या उनमें आग लगने से जुड़े मामले नए नहीं हैं और ब्रैंडेड डिवाइसेज भी अब इससे अछूते नहीं रहे। हाल ही में मुंबई के एक शाओमी यूजर के Redmi 7S स्मार्टफोन  (Smartphone) में आग लगने का मामला सामने आया है। यूजर का कहना है कि उसका डिवाइस ऑफिस में टेबल पर रखा हुआ था, तभी अचानक उसमें आग लग गई। डिवाइस का निचला हिस्सा बुरी तरह जल गया है और इसकी तस्वीरें भी सामने आई हैं। वहीं, शाओमी ने जवाब में कहा कि यूजर की गलती और फोन की बैटरी बाहर से पड़े दवाब की वजह से डिवाइस में आग लगी। जाहिर सी बात है, स्मार्टफोन एक इलेक्ट्रॉनिक गैजेट है और इसकी बैटरी ज्यादा लंबे वक्त तक इस्तेमाल करने पर गर्म हो जाती है। बैटरी में होने वाली रसायनिक प्रक्रिया कई बार इसके फटने की वजह बनती है। अपने स्मार्टफोन को ऐसे हादसों से सुरक्षित रखना चाहते हैं तो कुछ जरूरी टिप्स फॉलो करने चाहिए।

ज्वलनशील पदार्थों से रखें दूर

अपने फोन को ज्वलनशील पदार्थों जैसे कपड़ों, कॉटन या बेड से दूर रखें। साथ ही शर्ट, टी-शर्ट या बनियान की सामने वाली जेब में मोबाइल फोन नहीं रखना चाहिए। सेलफोन रेडिएशन के खतरे तो एक मुद्दा हैं ही, फोन फटने की सूरत में उसका हार्ट के पास होना ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

सर्विस सेंटर पर रिपेयरिंग

फोन में कोई खराबी आने पर लोकल शॉप्स पर रिपेयर करवाने से बचना चाहिए। ऑथेंटिक सर्विस सेंटर पर फोन रिपेयर करवाना सेफ रहता है और वहां ओरिजनल पार्ट्स भी मिल जाते हैं।

सस्ती बैटरी न करें इस्तेमाल

अगर फोन की बैटरी रिप्लेस करवानी हो तो हमेशा फोन ब्रैंड की ऑरिजनल बैटरी ही लगवाएं। कभी भी सस्ती और बेकार क्वॉलिटी की बैटरी फोन में न यूज करें। इसी तरह अगर लगातार यूज करने के चलते फोन काफी गर्म हो गया हो तो थोड़ी देर उसे नॉर्मल हो जाने दें। गर्म होने पर उसे लगातार यूज न करते रहें।

तकिए के नीचे न रखें

तकिए के नीचे फोन रखकर सोना खतरनाक हो सकता है क्योंकि इससे डिवाइस का टेंपरेचर तो बढ़ता ही है, डिवाइस पर दबाव भी पड़ता है। देर रात तक फोन चेक करने की आदत के कारण अक्सर लोग फोन को तकिए के नीचे रखकर सो जाते हैं। ऐसा बिल्कुल न करें।

फोन पर न पड़े प्रेशर

चार्ज करते वक्त इस बात का खास ख्याल रखें कि फोन पर कुछ रखा न हो और अनावश्यक दबाव न पड़े। फोन को मोटे केस या कवर में रखकर चार्ज करने से भी उसका टेंपरेचर बढ़ता है और बैटरी डैमेज हो सकती है। कवर हटाकर फोन चार्ज करें।

ओरिजनल चार्जर करें इस्तेमाल

ज्यादातर यूजर्स फोन का ऑरिजनल चार्जर खराब होने पर लोकल चार्जर खरीद लेते हैं। यह घातक हो सकता है। कुछ पैसों की बचत के लिए लोकल चार्जर का इस्तेमाल सही नहीं है। हमेशा अपने फोन का ऑरिजनल चार्जर ही इस्तेमाल करें। ड्युप्लिकेट या किसी दूसरे फोन का चार्जर बैटरी और फोन दोनों के लिए नुकसानदेह होता है।

रातभर न करें चार्ज

कई लोगों की आदत रातभर के लिए फोन को चार्जिंग पर लगा देने की होती है, ऐसा किसी भी सूरत में न करें। यह फोन और बैटरी दोनों के लिए हानिकारक होता है।

न पड़े सीधी धूप

अक्सर लोग फोन को चार्ज पर लगाते वक्त ध्यान नहीं रखते कि उसपर सीधी धूप तो नहीं पड़ रही। इसका खास ध्यान रखें, वरना फोन डैमेज हो सकता है। फोन को डायरेक्ट सनलाइट में कभी चार्ज नहीं करना चाहिए।

पावर स्ट्रिप से चार्ज न करें

अगर आप सीधे सॉकेट में न लगाकर फोन को पावर स्ट्रिप एक्सटेंशन से चार्ज करते हैं तो इससे भी बचें। इसी तरह कार चार्जर लंबे सफर में इस्तेमाल करने के लिए उपयोग किया जाना चाहिए। वह भी तब जब आपके पास इसके अलावा चार्जिंग का कोई और ऑप्शन मोजूद ना हो।

Tags :

NEXT STORY
Top