भारत सरकार भी जल्द लाएगी व्हाट्सएप का देसी वर्जन, जानें इसकी वजह

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(27 जून): भारत पॉप्युलर चैट ऐप वॉट्सऐप और दूसरे कम्युनिकेशन नेटवर्क का देसी वर्जन डवलप करने पर विचार कर रहा है। वह खासतौर पर सरकारी एजेंसियों के लिए ऐसा ऐप बनाना चाहता है, जिससे देश को भविष्य में जियो-पॉलिटिकल जोखिम से बचाने में सहायता मिल सके। 

एक बड़े सरकारी अधिकारी ने बताया कि गूगल और क्वालकॉम जैसी अमेरिकी कंपनियां जिस तरह चीन की कंपनी हुआवे पर अमेरिका के प्रतिबंध लगाने के बाद उससे रिश्ते तोड़ने जा रही हैं, उससे भारत सरकार चौकस हो गई है। अधिकारी ने कहा, ‘रणनीतिक और सुरक्षा कारणों से देसी चैट ऐप बनाने पर चर्चा चल रही है। 

आगे चलकर हम कम से कम सरकारी स्तर पर संवाद के लिए अपना ईमेल, मेसेजिंग सिस्टम डिवेलप करना चाहते हैं, ताकि हमें बाहरी कंपनियों पर निर्भर नहीं रहना पड़े। उन्होंने बताया कि आधिकारिक संवाद देश में बने और सुरक्षित नेटवर्क पर हो, इस बारे में चर्चा पहले से चल रही थी। उन्होंने कहा, ‘हमारे पास सरकारी वॉट्सऐप का कोई वर्जन होना चाहिए।

 सरकार चाहती है कि ऐसे नेटवर्क पर जो भी कम्युनिकेशन हो और डेटा भेजे जाएं, ‌उन्हें भारत में ही स्टोर किया जाए। अधिकारी ने बताया, ‘इसकी शुरुआत सभी सरकारी कम्युनिकेशन को ऐसे प्लैटफॉर्म पर लाकर हो सकती है। उसके बाद अगले फेज में सरकार लोगों के साथ जो संवाद करे, उसे इस पर शिफ्ट किया जा सकता है।

 हुआवे पर अमेरिकी सरकार के पाबंदी लगाने के बाद गूगल के ऐंड्रॉयड ने कहा था कि वह हुआवे के स्मार्टफोन से अपना रिश्ता तोड़ेगा। इस साल 21 मई को अमेरिका ने हुआवे के प्रॉडक्ट्स पर पाबंदी लगाई थी। उसने अमेरिकी कंपनियों को हुआवे को सॉफ्टवेयर और कंपोनेंट की सप्लाई करने से भी रोक दिया है। 

अमेरिका भारत पर भी 5जी सर्विस में हुआवे को एंट्री नहीं देने के लिए दबाव डाल रहा है। अधिकारी ने कहा, आप देखिए, हुआवे और उसके ऑनर ब्रांड के फोन के साथ क्या हो रहा है। कोई इसकी कल्पना तक नहीं कर सकता था, लेकिन इस घटना से हमारी आंखें खुल गई हैं। 

अगर कल को अमेरिका किसी वजह से हम पर भरोसा नहीं करता तो उसकी सारी कंपनियां भारत में नेटवर्क बंद कर सकती हैं और इससे सब कुछ रुक जाएगा। इस जोखिम को खत्म करने के लिए हमें कदम उठाने पड़ेंगे। अमेरिका के प्रतिबंध लगाने के बाद खबरों के मुताबिक हुआवे अपने ऑपरेटिंग सिस्टम होंगमेंग को ट्रेडमार्क करने की कोशिश कर रहा है।